Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 1 min read

मातर मड़ई भाई दूज

मातर मड़ई,, भाई दुज
===============

मातर मड़ई मेला
भाई दुज के दिन।
चलव संगी जाबों
देव धामी के तीर।।

नाचत कुदत राऊत
सकलाही सब झिन।
सोहही बांधें राऊत
रवतईन रांधही खीर।।

प्रेम प्रीत के डोरी अऊ
मया दुलार के बंधना।
लेके आही दीदी भाटों
हासत कुदत घर अंगना ।।

गांव भर खुशी मनाबो
मातर मेला के तिहार।
देवता धामी उमड़ जाथे
पुजा करथे जी सियान।।

रक्षा खातिर गांव भर के
सुनता सब झन हो जाथे
तीर तखार के दाई दीदी
भाई बहिनी घलो आथे।।

मौलिक रचना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे अमोदी आरंग ज़िला रायपुर छ ग

Language: Hindi
188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
Mahendra Narayan
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*धन्यवाद*
*धन्यवाद*
Shashi kala vyas
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
अनगढ आवारा पत्थर
अनगढ आवारा पत्थर
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
The_dk_poetry
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
।। श्री सत्यनारायण ब़त कथा महात्तम।।
।। श्री सत्यनारायण ब़त कथा महात्तम।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जन कल्याण कारिणी
जन कल्याण कारिणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
कवि दीपक बवेजा
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
VINOD CHAUHAN
बहुत ही हसीन तू है खूबसूरत
बहुत ही हसीन तू है खूबसूरत
gurudeenverma198
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
*बाल गीत (सपना)*
*बाल गीत (सपना)*
Rituraj shivem verma
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*शंकर जी (बाल कविता)*
*शंकर जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"बेहतर है चुप रहें"
Dr. Kishan tandon kranti
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ईश्वर बहुत मेहरबान है, गर बच्चियां गरीब हों,
ईश्वर बहुत मेहरबान है, गर बच्चियां गरीब हों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
Piyush Goel
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
मैं राम का दीवाना
मैं राम का दीवाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...