Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

माटी तेल कपास की…

जलें तेल अरु वर्तिका, दीप बने आधार।
तीनों के गठजोड़ से, अँधियारे की हार।।

माटी तेल कपास की, तिकड़ी बनी मिसाल।
अँधियारे को बेधने, बुनती जाल कमाल।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
2 Likes · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
*खड़ी हूँ अभी उसी की गली*
*खड़ी हूँ अभी उसी की गली*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"कथनी-करनी"
Dr. Kishan tandon kranti
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
gurudeenverma198
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्यारी सी चिड़िया
प्यारी सी चिड़िया
Dr. Mulla Adam Ali
3393⚘ *पूर्णिका* ⚘
3393⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
VEDANTA PATEL
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
अशोक कुमार ढोरिया
बात बस कोशिशों की है
बात बस कोशिशों की है
Dr fauzia Naseem shad
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
खामोशियों की वफ़ाओं ने मुझे, गहराई में खुद से उतारा है।
खामोशियों की वफ़ाओं ने मुझे, गहराई में खुद से उतारा है।
Manisha Manjari
जवाब के इन्तजार में हूँ
जवाब के इन्तजार में हूँ
Pratibha Pandey
क्षणिकाएं
क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
Paras Nath Jha
बेमेल शादी!
बेमेल शादी!
कविता झा ‘गीत’
हम सा भी कोई मिल जाए सरेराह चलते,
हम सा भी कोई मिल जाए सरेराह चलते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आंखों की गहराई को समझ नहीं सकते,
आंखों की गहराई को समझ नहीं सकते,
Slok maurya "umang"
कभी-कभी
कभी-कभी
Ragini Kumari
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
* मुस्कुरा देना *
* मुस्कुरा देना *
surenderpal vaidya
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
है बुद्ध कहाँ हो लौट आओ
है बुद्ध कहाँ हो लौट आओ
VINOD CHAUHAN
"समझाइश "
Yogendra Chaturwedi
नारी शक्ति
नारी शक्ति
भरत कुमार सोलंकी
Loading...