Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 1 min read

मां

बीमार बेटे की ख़ातिर जो तमाम रात जागती है,
मुझे माँ के पायल की वो गूँज याद आती है !!
-मोनिका

2 Likes · 362 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Monika Verma
View all
You may also like:
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
लेकिन क्यों
लेकिन क्यों
Dinesh Kumar Gangwar
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
Mai apni wasiyat tere nam kar baithi
Mai apni wasiyat tere nam kar baithi
Sakshi Tripathi
खुली आंखें जब भी,
खुली आंखें जब भी,
Lokesh Singh
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Dr Parveen Thakur
3133.*पूर्णिका*
3133.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
शेखर सिंह
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"जोकर"
Dr. Kishan tandon kranti
फागुन
फागुन
Punam Pande
पात उगेंगे पुनः नये,
पात उगेंगे पुनः नये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
Shashi kala vyas
ସଦାଚାର
ସଦାଚାର
Bidyadhar Mantry
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
फ़ासला दरमियान
फ़ासला दरमियान
Dr fauzia Naseem shad
कैसे कहूँ किसको कहूँ
कैसे कहूँ किसको कहूँ
DrLakshman Jha Parimal
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
gurudeenverma198
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
Yogendra Chaturwedi
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िंदगी...
ज़िंदगी...
Srishty Bansal
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
■ आज का विचार-
■ आज का विचार-
*Author प्रणय प्रभात*
ऐसे थे पापा मेरे ।
ऐसे थे पापा मेरे ।
Kuldeep mishra (KD)
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
Anil chobisa
Loading...