Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2023 · 1 min read

मां ब्रह्मचारिणी

मां ब्रह्मचारिणी
ओम नमो ब्रह्मचारिणी माता,
रूप तुम्हारा उज्ज्वल कांति से जगमगाता।
तुम्हारी कृपा से है जगत में फैली पवित्रता,
ज्ञान और सदाचार से तुम्हारी है मित्रता।
एक हस्ते अक्ष्यमाला दूजे धारित कमंडल,
शांत चित्त दिव्य पवित्र आभा युक्त मुखमंडल।
श्वेत वस्त्र धारित हे अखण्ड तपस्विनी,
शोक संताप हर्ता माता हंसवाहिनी।
नमो नमो माता ब्रह्मचारिणी,
तुम हो अखण्डित तपश्चारिणी।
श्वेत निर्मल काया धवल रूप,
माता का यह अनुपम स्वरूप।
दुखियों के दुख हरने वाली,
भक्तों को संकट से बचाने वाली।
मुझे भी दो सुख सम्पदा कृपा करो जगदम्बे मैया ,
आए तुम्हारी शरण में हम पार लगा दो हमारी नैया।।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उसका आना
उसका आना
हिमांशु Kulshrestha
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
नेताम आर सी
"मेरे पास भी रखी है स्याही की शीशी। किस पर फेंकूं कि सुर्ख़िय
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
Neeraj Agarwal
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
मेरी आंखों का
मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
प्राण प्रतिष्ठा
प्राण प्रतिष्ठा
Mahender Singh
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गीत
गीत
Mahendra Narayan
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
काम से राम के ओर।
काम से राम के ओर।
Acharya Rama Nand Mandal
वह देश हिंदुस्तान है
वह देश हिंदुस्तान है
gurudeenverma198
तनाव ना कुछ कर पाने या ना कुछ पाने की जनतोजहत  का नही है ज्य
तनाव ना कुछ कर पाने या ना कुछ पाने की जनतोजहत का नही है ज्य
पूर्वार्थ
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
Manoj Mahato
*ये सावन जब से आया है, तुम्हें क्या हो गया बादल (मुक्तक)*
*ये सावन जब से आया है, तुम्हें क्या हो गया बादल (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
VINOD CHAUHAN
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"मुश्किल है मिलना"
Dr. Kishan tandon kranti
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
bharat gehlot
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
सूरज दादा ड्यूटी पर
सूरज दादा ड्यूटी पर
डॉ. शिव लहरी
मजदूर हूँ साहेब
मजदूर हूँ साहेब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
Ab maine likhna band kar diya h,
Ab maine likhna band kar diya h,
Sakshi Tripathi
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...