Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2024 · 1 min read

मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।

मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
जन्म दिया जिसे तो वो मरते मरते फर्ज़ निभाएगा।
तेरा लाल हर हाल में तेरे ही काम आएगा।
भारत मातृभूमि के रक्षा में अपना ये जान सिर वारेगा।
RJ Anand Prajapati

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*मोटू (बाल कविता)*
*मोटू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
Paras Nath Jha
"कोरा कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरा प्रेम के प्रति सम्मान
मेरा प्रेम के प्रति सम्मान
Ms.Ankit Halke jha
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
Sapna Arora
|| तेवरी ||
|| तेवरी ||
कवि रमेशराज
पराक्रम दिवस
पराक्रम दिवस
Bodhisatva kastooriya
समय बड़ा बलवान है भैया,जो न इसके साथ चले
समय बड़ा बलवान है भैया,जो न इसके साथ चले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आ रे बादल काले बादल
आ रे बादल काले बादल
goutam shaw
नव वर्ष
नव वर्ष
Satish Srijan
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
Vishal babu (vishu)
दिल का कोई
दिल का कोई
Dr fauzia Naseem shad
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
क्यों दोष देते हो
क्यों दोष देते हो
Suryakant Dwivedi
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
gurudeenverma198
रूठते-मनाते,
रूठते-मनाते,
Amber Srivastava
कब मेरे मालिक आएंगे!
कब मेरे मालिक आएंगे!
Kuldeep mishra (KD)
2337.पूर्णिका
2337.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ नाकारों से क्या लगाव?
■ नाकारों से क्या लगाव?
*Author प्रणय प्रभात*
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
प्रकृति एवं मानव
प्रकृति एवं मानव
नन्दलाल सुथार "राही"
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
कुएं का मेंढ़क
कुएं का मेंढ़क
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...