Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2023 · 1 min read

मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।

भारती की आरती का, गान गाने आ गया हूं
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं
क्या गजब का लड़ रहा है, वीर अब बेखौफ से,
लगता है कि ये जना है, सिंहनी की कौख से
मां सभी तैयार थे, अब मारने की होड़ में,
तीव्रता से चल पड़े वो, काल से इस मोड़ में।
मैं भला कैसे ठहराता, देश की रक्षार्थ में,
और मैं भी चल पड़ा था, सैनिकों के साथ में
मां चली थी गोलियां, बेटा तेरा बैखोफ था
ना देख पाया मैं विजय को, बस इसी का शोक था
मां तेरा बेटा समर में, काल बन कर छा गया था,
और मुझको देखकर, दुश्मन बहुत घबरा गया था,
मां इसीलिए मैं लड़ा बहुत, अपना कर्तव्य निभाने को,
क्या ताकत है इस मिट्टी की, दुश्मन को आज बताने को
मां मुझको था ज्ञात सभी, फिर तुझसे ना मिल पाऊंगा,
मैं मरकर भी इस भारत में, तेरा गौरव लहराऊंगा,
अब मैं ये पावन तिरंगा, ओड के घर आ गया हूं,
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।

रवि यादव, कवि
कोटा, राजस्थान
9571796024

250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
है वही, बस गुमराह हो गया है…
है वही, बस गुमराह हो गया है…
Anand Kumar
!! हे उमां सुनो !!
!! हे उमां सुनो !!
Chunnu Lal Gupta
सत्य का संधान
सत्य का संधान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आजादी की शाम ना होने देंगे
आजादी की शाम ना होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
संदेश
संदेश
Shyam Sundar Subramanian
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ चुनावी साल
■ चुनावी साल
*Author प्रणय प्रभात*
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
$úDhÁ MãÚ₹Yá
2923.*पूर्णिका*
2923.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
VINOD CHAUHAN
One fails forward toward success - Charles Kettering
One fails forward toward success - Charles Kettering
पूर्वार्थ
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
करन ''केसरा''
राष्ट्र निर्माण के नौ दोहे
राष्ट्र निर्माण के नौ दोहे
Ravi Prakash
ख़ुद के होते हुए भी
ख़ुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
Vishal babu (vishu)
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
Indramani Sabharwal
चीर हरण ही सोचते,
चीर हरण ही सोचते,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
Atul "Krishn"
मायका
मायका
Mukesh Kumar Sonkar
वक्त
वक्त
लक्ष्मी सिंह
"पते पर"
Dr. Kishan tandon kranti
आज होगा नहीं तो कल होगा
आज होगा नहीं तो कल होगा
Shweta Soni
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
Rajesh Kumar Arjun
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
यह रंगीन मतलबी दुनियां
यह रंगीन मतलबी दुनियां
कार्तिक नितिन शर्मा
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...