Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

मां की अभिलाषा

मां की ममता गुलाब का फूल, संतान दुष्ट मां कभी नहीं शत्रु।

मां को संतान से प्यार, बच्चे की मुस्कान मां को दे, सारे जहान का सुख।

मां खुद रह लेगी दुखी, जिस काज
से मिले औलाद को खुशी।

मां में होती अगर शक्ति, तो सारी दुनिया स्वर्ग पर राज करती।

बच्चे के सुख की अभिलाषा मां कि कभी पूरी नहीं होती,
किसी भी जीव कि मां की ममता कभी अधूरी नहीं होती।

मां की सदा यह आरजू, बच्चे की अभिलाषाओं को पूरा करना उसके हो काबू ।

मां की महिमा का बखान, परमात्मा के लिए भी नहीं आसान।

194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
Otteri Selvakumar
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
आज देव दीपावली...
आज देव दीपावली...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जवानी
जवानी
Bodhisatva kastooriya
मां
मां
Sûrëkhâ
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"उई मां"
*Author प्रणय प्रभात*
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
में बेरोजगारी पर स्वार
में बेरोजगारी पर स्वार
भरत कुमार सोलंकी
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
*निरोध (पंचचामर छंद)*
*निरोध (पंचचामर छंद)*
Rituraj shivem verma
थोड़ा नमक छिड़का
थोड़ा नमक छिड़का
Surinder blackpen
सुदामा जी
सुदामा जी
Vijay Nagar
कविता
कविता
Alka Gupta
मन काशी मन द्वारिका,मन मथुरा मन कुंभ।
मन काशी मन द्वारिका,मन मथुरा मन कुंभ।
विमला महरिया मौज
मोबाइल महात्म्य (व्यंग्य कहानी)
मोबाइल महात्म्य (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिल चाहे कितने भी,
दिल चाहे कितने भी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बिना अश्क रोने की होती नहीं खबर
बिना अश्क रोने की होती नहीं खबर
sushil sarna
3316.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3316.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
"रातरानी"
Ekta chitrangini
क्यों प्यार है तुमसे इतना
क्यों प्यार है तुमसे इतना
gurudeenverma198
वातावरण चितचोर
वातावरण चितचोर
surenderpal vaidya
चँचल हिरनी
चँचल हिरनी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
पूर्वार्थ
*खिलना सीखो हर समय, जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
*खिलना सीखो हर समय, जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चिन्तन का आकाश
चिन्तन का आकाश
Dr. Kishan tandon kranti
लगन लगे जब नेह की,
लगन लगे जब नेह की,
Rashmi Sanjay
Loading...