Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

मां इससे ज्यादा क्या चहिए

मां तुमने जीवन दिया
इससे ज्यादा क्या चहिए।
प्रथम गुरु बन तुमने पढ़ाया
इससे ज्यादा क्या चहिए।
खुद भूखी रह मुझे खिलाया
इससे ज्यादा क्या चहिए।
खुद हो देवी पर किसी और को बताया
इससे ज्यादा क्या चहिए।
जीवन देकर जीना भी सिखाया
इससे ज्यादा क्या चहिए ।
अपने साथ पिता का भी प्यार तुमने दिया
इससे ज्यादा क्या चहिए।
पढ़ाया लिखाया जीवन को सुगम बनाया
इससे ज्यादा क्या चहिए।
जो मांगा वो सब मैने तुमसे पाया
इससे ज्यादा क्या चहिए।
मां तुम्हारे लिए तन मन धन जीवन सब समर्पित

Language: Hindi
128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
*वो खफ़ा  हम  से इस कदर*
*वो खफ़ा हम से इस कदर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ज़रा-सी बात चुभ जाये,  तो नाते टूट जाते हैं
ज़रा-सी बात चुभ जाये, तो नाते टूट जाते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मैं मगर अपनी जिंदगी को, ऐसे जीता रहा
मैं मगर अपनी जिंदगी को, ऐसे जीता रहा
gurudeenverma198
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
Paras Nath Jha
माँ मेरा मन
माँ मेरा मन
लक्ष्मी सिंह
संगठग
संगठग
Sanjay ' शून्य'
■ बड़ा सवाल...
■ बड़ा सवाल...
*प्रणय प्रभात*
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
Ravi Betulwala
खुशबू चमन की।
खुशबू चमन की।
Taj Mohammad
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
"ख़्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
राज़ की बात
राज़ की बात
Shaily
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
कवि रमेशराज
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
शेखर सिंह
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
shabina. Naaz
दोहे
दोहे
Suryakant Dwivedi
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
🙏
🙏
Neelam Sharma
गाँधी जयंती
गाँधी जयंती
Surya Barman
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
Srishty Bansal
योग की महिमा
योग की महिमा
Dr. Upasana Pandey
सोने के सुन्दर आभूषण
सोने के सुन्दर आभूषण
surenderpal vaidya
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Bodhisatva kastooriya
कहां से लाऊं शब्द वो
कहां से लाऊं शब्द वो
Seema gupta,Alwar
इंद्रधनुषी प्रेम
इंद्रधनुषी प्रेम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...