Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 1 min read

मांँ

१)
जिसे माँ की दुआएँ मिल गई हैं।
उसे रब की सदाएँ मिल गई हैं।
२)
ख़ुशी ने ख़ुद लिखा मेरा मुकद्दर
मुझे जन्नत की राहें मिल गई हैं।
३)
हरिक तकलीफ़ में माँ साथ देती
मुझे ठंडी हवाएँ मिल गई हैं।
४)
नहीं शिकवा हमें अब ज़िन्दगी से
हमें खुशियों की थाहें मिल गई हैं।
५)
परिंदे सी उड़े आज़ाद ‘नीलम’
उसे अंबर की राहें मिल गई हैं।

नीलम शर्मा ✍️

1 Like · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
Shyam Sundar Subramanian
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
बच्चों के मन भाता तोता (बाल कविता)
बच्चों के मन भाता तोता (बाल कविता)
Ravi Prakash
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
कवि रमेशराज
दोहे- उदास
दोहे- उदास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
93. ये खत मोहब्बत के
93. ये खत मोहब्बत के
Dr. Man Mohan Krishna
टैगोर
टैगोर
Aman Kumar Holy
छंद -रामभद्र छंद
छंद -रामभद्र छंद
Sushila joshi
वफ़ा और बेवफाई
वफ़ा और बेवफाई
हिमांशु Kulshrestha
दोस्ती...
दोस्ती...
Srishty Bansal
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
चलेंगे साथ जब मिलके, नयी दुनियाँ बसा लेंगे !
चलेंगे साथ जब मिलके, नयी दुनियाँ बसा लेंगे !
DrLakshman Jha Parimal
अंतरद्वंद
अंतरद्वंद
Happy sunshine Soni
आ..भी जाओ मानसून,
आ..भी जाओ मानसून,
goutam shaw
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
Kanchan Khanna
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
Ram Krishan Rastogi
"दिल का हाल सुने दिल वाला"
Pushpraj Anant
हमेशा गिरगिट माहौल देखकर रंग बदलता है
हमेशा गिरगिट माहौल देखकर रंग बदलता है
शेखर सिंह
बीतल बरस।
बीतल बरस।
Acharya Rama Nand Mandal
कुछ किताबें और
कुछ किताबें और
Shweta Soni
"मिर्च"
Dr. Kishan tandon kranti
छत्तीसगढ़ी हाइकु
छत्तीसगढ़ी हाइकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कब रात बीत जाती है
कब रात बीत जाती है
Madhuyanka Raj
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
पूर्वार्थ
■ ब्रांच हर गांव, कस्बे, शहर में।
■ ब्रांच हर गांव, कस्बे, शहर में।
*प्रणय प्रभात*
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Raju Gajbhiye
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
विमला महरिया मौज
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: ओं स्वर रदीफ़ - में
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: ओं स्वर रदीफ़ - में
Neelam Sharma
Loading...