Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

माँ

माँ रंगोली द्वार की, माँ ही बंदनवार
माँही है मंगल कलश,माँ ही हर त्यौहार
माँ ही हर त्योहार, बनाती ये घर को घर
पापा का भी हाथ, बटाती है हर पग पर
कहे ‘अर्चना’ बात, बड़ी होती है भोली
रिश्तों के ले रंग, सजाती माँ रंगोली

डॉ अर्चना गुप्ता
19-05-2024

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
"अपराध का ग्राफ"
Dr. Kishan tandon kranti
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
Manisha Manjari
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
इन्सान बन रहा महान
इन्सान बन रहा महान
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
एक ठंडी हवा का झोंका है बेटी: राकेश देवडे़ बिरसावादी
एक ठंडी हवा का झोंका है बेटी: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नींद ( 4 of 25)
नींद ( 4 of 25)
Kshma Urmila
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
surenderpal vaidya
स्याह एक रात
स्याह एक रात
हिमांशु Kulshrestha
उपहार
उपहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
Shashi kala vyas
*सपने कुछ देखो बड़े, मारो उच्च छलॉंग (कुंडलिया)*
*सपने कुछ देखो बड़े, मारो उच्च छलॉंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गांव की गौरी
गांव की गौरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
I don't need any more blush when I have you cuz you're the c
I don't need any more blush when I have you cuz you're the c
Sukoon
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
Satyaveer vaishnav
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
Kishore Nigam
डर लगता है
डर लगता है
Dr.Pratibha Prakash
■ थोथे नेता, थोथे वादे।।
■ थोथे नेता, थोथे वादे।।
*प्रणय प्रभात*
हिन्दी में ग़ज़ल की औसत शक़्ल? +रमेशराज
हिन्दी में ग़ज़ल की औसत शक़्ल? +रमेशराज
कवि रमेशराज
3311.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3311.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
Harminder Kaur
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
Taj Mohammad
सबके सामने रहती है,
सबके सामने रहती है,
लक्ष्मी सिंह
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
समाजसेवा
समाजसेवा
Kanchan Khanna
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...