Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

माँ

मां के लिए कुछ लिखूं मेरी कलम में ताकत नही
मां की ममता का बखान करूं शब्दों में ताकत नही
नो महीने गर्भ में रख जन्म देती है वो होती है मां
अपना दूध पिलाती है पालती है वो होती है माँ

हर दुख से जो बचा कर रखती वो होती है माँ
आँचल में अपने जो छुपा लेती वो होती है माँ

डाँट कर चुपके चुपके जो रोती वो होती है माँ
अगले पल सीने से चिपटाती वो होती है माँ

तूफानों से लड़ कर बचाती है वो होती है माँ
अपने हाथों से खाना जो खिलाती वो होती है माँ

माँ देवी है, नवदुर्गा है, लक्ष्मी भी होती है माँ
विद्या की देवी सरस्वती मां शारदे होती है माँ

ऐसी मां के चरणों में मेरा शत शत वंदन है
सिर्फ आज नही तेरा हर दिन अभिनंदन है

Language: Hindi
133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
टूटे बहुत है हम
टूटे बहुत है हम
The_dk_poetry
होकर मजबूर हमको यार
होकर मजबूर हमको यार
gurudeenverma198
तुम मेरा हाल
तुम मेरा हाल
Dr fauzia Naseem shad
मनुष्य जीवन - एक अनसुलझा यक्ष प्रश्न
मनुष्य जीवन - एक अनसुलझा यक्ष प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
💐प्रेम कौतुक-462💐
💐प्रेम कौतुक-462💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
Shubham Pandey (S P)
हकीकत पर एक नजर
हकीकत पर एक नजर
पूनम झा 'प्रथमा'
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
तेरी मिट्टी के लिए अपने कुएँ से पानी बहाया है
तेरी मिट्टी के लिए अपने कुएँ से पानी बहाया है
'अशांत' शेखर
बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट
बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट
Ravi Prakash
कन्या पूजन
कन्या पूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कालजई रचना
कालजई रचना
Shekhar Chandra Mitra
बात सीधी थी
बात सीधी थी
Dheerja Sharma
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
अनजान दीवार
अनजान दीवार
Mahender Singh
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
"अंगूर"
Dr. Kishan tandon kranti
कोशिश करना छोरो मत,
कोशिश करना छोरो मत,
Ranjeet kumar patre
मांँ ...….....एक सच है
मांँ ...….....एक सच है
Neeraj Agarwal
कोरे कागज़ पर
कोरे कागज़ पर
हिमांशु Kulshrestha
3278.*पूर्णिका*
3278.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
Namrata Sona
जिंदगी की कहानी लिखने में
जिंदगी की कहानी लिखने में
Shweta Soni
** वर्षा ऋतु **
** वर्षा ऋतु **
surenderpal vaidya
😊😊फुल-फॉर्म😊
😊😊फुल-फॉर्म😊
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
मन
मन
Ajay Mishra
Loading...