Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2023 · 1 min read

*”माँ”*

“माँ”
चांदनी रातों में जब स्वप्न लोक की दुनिया में खो जाती हूँ।
अंबर में चमकते टिमटिमाते हुए सितारों को गिनती हूँ।
उन तारों के साथ चाँद को देखते हुए सोचती रहती हूँ।
माँ की ममतामयी मूरत ईश्चर ने ऐसी ही प्यारी बनाई है।
माँ को देखते उनके चरणों में ही जन्नत की सैर कर लेती हूँ।
सुबह सबेरे उठ माँ की मूरत में जब खो जाती हूँ।
झट से उनके बांहों में झूलकर माँ को गले लगाती हूँ।
वो स्नेहिल स्पर्श उनके हाथों से आशीष सदैव पा जाती हूँ।
फिर धीरे से माँ के आँचल में छिपकर उन यादों में खो जाती हूँ।
मीठी सी मुस्कान बिखेरे जब माँ मुझे पुकारती है।
जो स्वयं में खोई हुई न जाने फिर भी सभी का ख्याल रखती है।
सुखद एहसास दे मन को शीतल ममता की छाँव दे जाती है।
वो सिर पर हाथ फेरकर दुआओं का असर खोजती है।
सारे दुःख दर्द भुलाकर भूली बिसरी यादों में खो जाती हूँ।
काश …! वो वक्त फिर लौट आये जब नन्हीं सी परी देख माँ कितनी मुस्काई थी।
मेरे नैनो की अश्रु धारा की बूंदे गिर कर उन खुशियों के लिए मोहताज हुई हूँ।
शशिकला व्यास शिल्पी ✍️
हैप्पी मदर्स डे 🌹🌹♥️💝

1 Like · 1 Comment · 235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
Dr Archana Gupta
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
करने लगा मैं ऐसी बचत
करने लगा मैं ऐसी बचत
gurudeenverma198
*जिंदगी के अनुभवों से एक बात सीख ली है कि ईश्वर से उम्मीद लग
*जिंदगी के अनुभवों से एक बात सीख ली है कि ईश्वर से उम्मीद लग
Shashi kala vyas
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझे भी
मुझे भी "याद" रखना,, जब लिखो "तारीफ " वफ़ा की.
Ranjeet kumar patre
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
Dr Shweta sood
इक तेरा ही हक है।
इक तेरा ही हक है।
Taj Mohammad
लड़का हो या लड़की ये दोनो एक किताब की तरह है ये अपने जीवन का
लड़का हो या लड़की ये दोनो एक किताब की तरह है ये अपने जीवन का
पूर्वार्थ
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
मेरी चाहत
मेरी चाहत
Namrata Sona
3030.*पूर्णिका*
3030.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
मनोज कर्ण
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
Neelam Sharma
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
*खाई दावत राजसी, किस्मों की भरमार【हास्य कुंडलिया】*
*खाई दावत राजसी, किस्मों की भरमार【हास्य कुंडलिया】*
Ravi Prakash
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
बेशक प्यार तुमसे था, है ,और शायद  हमेशा रहे।
बेशक प्यार तुमसे था, है ,और शायद हमेशा रहे।
Vishal babu (vishu)
हिंदी क्या है
हिंदी क्या है
Ravi Shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
"दबंग झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
दिल -ए- ज़िंदा
दिल -ए- ज़िंदा
Shyam Sundar Subramanian
■ प्रेरक प्रसंग
■ प्रेरक प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...