Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Sep 2016 · 1 min read

माँ

माँँ आँँखों से ओझल होती।
आँँखे ढूँढ़ा करती रोती।
वो आँँखों में स्‍वप्‍न सँजोती।
हर दम नींद में जगती सोती।
वो मेरी आँँखों की ज्‍योती।
मैं उसकी आँँखों का मोती।
कितने आँँचल रोज भिगोती।
वो फिर भी न धीरज खोती।
कहता घर मैं हूँ इकलौती।
दादी की मैं पहली पोती।
माँँ की गोदी स्‍वर्ग मनौती।
क्‍या होता जो माँँ नाा होती।
नहीं जरा भी हुई कटौती।
गंगा बन कर भरी कठौती।
बड़ी हुई मैं हँसती रोती।
आँँख दिखाती जो हद खोती।
शब्‍द नहीं माँँ कैसी होती।
माँँ तो बस माँँ जैसी होती।
अाज हूँ जो, वो कभी न होती।
मेेरे संंग जो माँँ न होती।।

Language: Hindi
1 Comment · 328 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
View all
You may also like:
2583.पूर्णिका
2583.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
" बहुत बर्फ गिरी इस पेड़ पर
Saraswati Bajpai
एक पराई नार को 💃🏻
एक पराई नार को 💃🏻
Yash mehra
प्यार जताने के सभी,
प्यार जताने के सभी,
sushil sarna
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
Annu Gurjar
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा- अभियान
दोहा- अभियान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
Dr. Man Mohan Krishna
"दरअसल"
Dr. Kishan tandon kranti
जय हिन्द वाले
जय हिन्द वाले
Shekhar Chandra Mitra
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
Manisha Manjari
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*स्वतंत्रता आंदोलन में रामपुर निवासियों की भूमिका*
*स्वतंत्रता आंदोलन में रामपुर निवासियों की भूमिका*
Ravi Prakash
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम
प्रेम
Kanchan Khanna
*देना इतना आसान नहीं है*
*देना इतना आसान नहीं है*
Seema Verma
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
* अपना निलय मयखाना हुआ *
* अपना निलय मयखाना हुआ *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सरल मिज़ाज से किसी से मिलो तो चढ़ जाने पर होते हैं अमादा....
सरल मिज़ाज से किसी से मिलो तो चढ़ जाने पर होते हैं अमादा....
कवि दीपक बवेजा
कसौटी
कसौटी
Astuti Kumari
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
कवि रमेशराज
Loading...