Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।

माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
पोर-पोर साहस जगा, कर चितवन चितचोर ।।

72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
कवि दीपक बवेजा
आहुति  चुनाव यज्ञ में,  आओ आएं डाल
आहुति चुनाव यज्ञ में, आओ आएं डाल
Dr Archana Gupta
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
Ramswaroop Dinkar
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
कवि रमेशराज
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
शेखर सिंह
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
3172.*पूर्णिका*
3172.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*हथेली  पर  बन जान ना आए*
*हथेली पर बन जान ना आए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
हिमांशु Kulshrestha
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ
Sukoon
विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Neeraj Mishra " नीर "
पराये सपने!
पराये सपने!
Saransh Singh 'Priyam'
अधूरा सफ़र
अधूरा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरा भारत महान --
मेरा भारत महान --
Seema Garg
"जुबां पर"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
*पूजा का थाल (कुछ दोहे)*
*पूजा का थाल (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
यूं मेरी आँख लग जाती है,
यूं मेरी आँख लग जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
गीत - मेरी सांसों में समा जा मेरे सपनों की ताबीर बनकर
गीत - मेरी सांसों में समा जा मेरे सपनों की ताबीर बनकर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज़िस्म की खुश्बू,
ज़िस्म की खुश्बू,
Bodhisatva kastooriya
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
स्याही की
स्याही की
Atul "Krishn"
आ रे बादल काले बादल
आ रे बादल काले बादल
goutam shaw
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मां है अमर कहानी
मां है अमर कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"" *अहसास तेरा* ""
सुनीलानंद महंत
Loading...