Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

माँ लक्ष्मी

है माँ लक्ष्मी तेरे रूप निराले!
तुम रहती उनके आंगन बस,
जो करत है धँधे काले वाले!!
कभी रूप दहेज को राखति,
कभी इंकम टैक्स के हवाले!!
सरस्वती के साधको से तुमने,
कौन सो बैर है अब तक पाले?
इन परहु कबहु कृपा दृष्टि तुम,
करियो जे सब अब तेरे हवाले!!
फूल दीप नैवै से करते स्तुति,
काहे तुमने सरस्वती से बैर है पाले?
उनके भक्तन पर कछुक दृष्टि देउ,
का जीवन भर मरिहे भूखे साले?

बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट कवि पत्रकार सिकंदरा आगरा -282007 मो;9412443093

1 Like · 106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
Love life
Love life
Buddha Prakash
फेसबूक में  लेख ,कविता ,कहानियाँ और संस्मरण संक्षिप्त ,सरल औ
फेसबूक में लेख ,कविता ,कहानियाँ और संस्मरण संक्षिप्त ,सरल औ
DrLakshman Jha Parimal
जुदाई का एहसास
जुदाई का एहसास
प्रदीप कुमार गुप्ता
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
"सूनी मांग" पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
Typing mistake
Typing mistake
Otteri Selvakumar
जीवन की धूप-छांव हैं जिन्दगी
जीवन की धूप-छांव हैं जिन्दगी
Pratibha Pandey
खतरनाक आदमी / मुसाफ़िर बैठा
खतरनाक आदमी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तुम - हम और बाजार
तुम - हम और बाजार
Awadhesh Singh
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
क्या पता है तुम्हें
क्या पता है तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
Jyoti Khari
उसकी मर्जी
उसकी मर्जी
Satish Srijan
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोहा पंचक. . . .इश्क
दोहा पंचक. . . .इश्क
sushil sarna
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अन्नदाता
अन्नदाता
Akash Yadav
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
टुकड़े हुए दिल की तिज़ारत में मुनाफे का सौदा,
टुकड़े हुए दिल की तिज़ारत में मुनाफे का सौदा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सम्बन्ध
सम्बन्ध
Dr. Kishan tandon kranti
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
आह और वाह
आह और वाह
ओनिका सेतिया 'अनु '
"अगर आप किसी का
*प्रणय प्रभात*
बसंत
बसंत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हम जियें  या मरें  तुम्हें क्या फर्क है
हम जियें या मरें तुम्हें क्या फर्क है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बोल दे जो बोलना है
बोल दे जो बोलना है
Monika Arora
Loading...