Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

माँ मुझे विश्राम दे

दिवस श्रृंखला बीत चुकी
माँ बचन निभाता आया हूँ
अब दे दो माँ विश्राम मुझे
अब दर्द नही सह पाता हूँ।

एक प्रतिज्ञा ली थी मैंने
परोपकार करता ही रहूंगा,
पर क्षद्म विक्टिमो से पीड़ित
अब और न सह मैं पाऊंगा।

नीलाम हुआ घर मेरा है
कर आबाद दूसरे का घर,
आज जरूरत आन पड़ी
मुझे सूझता नहि कोइ दर।

दुराग्रही हो चला आज मै
अपने ही बीबी बच्चों का,
अपराधबोध से पीड़ित मैं
करता गुजर बसर सबका।

पर नही शिकायत उनको है
आज भी मुझसे जानो कोई,
मेरे साथी रहे बने सब
उस परोपकार में बाटे लोई।

आज पूछने यह आया हूँ
अपने भविष्य के बारे में,
शिबि दधीचि के पग पे चलूं
या सोचूं परीवार के बारे में।

क्षमता अब वो रही नही
पैदल चल नहि पाता हूँ,
किसी और कंधे पर चलना
माँ मैं सह नहि पाता हूँ।

किसी तरह आ पाया हूँ
माँ तेरे इस पावन धाम,
इस आशा में कि पाऊंगा
निज यक्षप्रश्न का समाधान।

तेरे धाम की प्रथम शिला
माँ गवाह मेरे आने की
आदेश न जब तक पाऊंगा
जिद निर्मेष नही जाने की।

निर्मेष

1 Like · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
View all
You may also like:
बेनाम जिन्दगी थी फिर क्यूँ नाम दे दिया।
बेनाम जिन्दगी थी फिर क्यूँ नाम दे दिया।
Rajesh Tiwari
कविता
कविता
Rambali Mishra
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
शेखर सिंह
221/2121/1221/212
221/2121/1221/212
सत्य कुमार प्रेमी
जलपरी
जलपरी
लक्ष्मी सिंह
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"बेहतर दुनिया के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
*हूँ कौन मैं*
*हूँ कौन मैं*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शुभ रात्रि मित्रों
शुभ रात्रि मित्रों
आर.एस. 'प्रीतम'
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
स्त्रियाँ
स्त्रियाँ
Shweta Soni
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
साहित्य गौरव
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
कवि रमेशराज
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
2653.पूर्णिका
2653.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इंडियन विपक्ष
इंडियन विपक्ष
*प्रणय प्रभात*
हिरख दी तंदे नें में कदे बनेआ गें नेई तुगी
हिरख दी तंदे नें में कदे बनेआ गें नेई तुगी
Neelam Kumari
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सदविचार
सदविचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
कोई तंकीद
कोई तंकीद
Dr fauzia Naseem shad
हारता वो है
हारता वो है
नेताम आर सी
पूछो हर किसी सेआजकल  जिंदगी का सफर
पूछो हर किसी सेआजकल जिंदगी का सफर
पूर्वार्थ
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
gurudeenverma198
pita
pita
Dr.Pratibha Prakash
चांदनी रातों में
चांदनी रातों में
Surinder blackpen
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
कोई तो डगर मिले।
कोई तो डगर मिले।
Taj Mohammad
Loading...