Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2024 · 1 min read

माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा

माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
ज्ञान-बुद्धि का मोह, रैंक का दबाव, बच्चे का मन, होता है घायल। कक्षा में सबसे आगे, यही है लक्ष्य, आत्मा-मन-व्यक्तित्व, सब पीछे छूट जाते।
ज्ञान-बुद्धि की दौड़ में, बच्चे दौड़ते हैं, पर भावनाओं का विकास, रुक जाता है। अंतर्मन की आवाज, दब जाती है, बच्चे का व्यक्तित्व, खो जाता है।
माँ-बाप का मोह, बच्चों को अंधा बनाता है, रैंक और नंबरों का, बोझ उन पर लादता है। सच्चा विकास कहाँ, इस भागदौड़ में, बच्चे का जीवन, हो जाता है क्षीण।
समय रहते जागो, माँ-बाप बनकर, बच्चे का मन, समझो, प्यार से गले लगाकर। ज्ञान-बुद्धि के साथ, भावनाओं का विकास, यही सच्चा शिक्षा, यही सच्चा विकास।
बच्चे का मन, एक बगीचा है, जिसमें भावनाओं के फूल खिलते हैं। प्यार और देखभाल की धूप में, बच्चे का व्यक्तित्व, खिलता है।
माँ-बाप का कर्तव्य है, बच्चे के मन को समझना, उसकी भावनाओं का सम्मान करना, और उसे एक बेहतर इंसान बनाना।

यह कविता आज के दौर में माँ-बाप के मोह और बच्चों के विकास के बारे में है। माँ-बाप अपने बच्चों को ज्ञान-बुद्धि और रैंक में आगे रखने के लिए दबाव डालते हैं, लेकिन उनकी भावनाओं और व्यक्तित्व के विकास पर ध्यान नहीं देते हैं। यह कविता माँ-बाप को बच्चों के मन को समझने और उन्हें एक बेहतर इंसान बनाने के लिए प्रेरित करती है।

90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
????????
????????
शेखर सिंह
हमारा अपना........ जीवन
हमारा अपना........ जीवन
Neeraj Agarwal
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी माटी मेरा देश....
मेरी माटी मेरा देश....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
पिता
Swami Ganganiya
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
डगर जिंदगी की
डगर जिंदगी की
Monika Yadav (Rachina)
विचार
विचार
Godambari Negi
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आता एक बार फिर से तो
आता एक बार फिर से तो
Dr Manju Saini
3122.*पूर्णिका*
3122.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"परोपकार के काज"
Dr. Kishan tandon kranti
अनमोल मोती
अनमोल मोती
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
“ सर्पराज ” सूबेदार छुछुंदर से नाराज “( व्यंगयात्मक अभिव्यक्ति )
“ सर्पराज ” सूबेदार छुछुंदर से नाराज “( व्यंगयात्मक अभिव्यक्ति )
DrLakshman Jha Parimal
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
ओसमणी साहू 'ओश'
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुक्तक _ दिखावे को ....
मुक्तक _ दिखावे को ....
Neelofar Khan
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
Dr MusafiR BaithA
*जन्मभूमि में प्राण-प्रतिष्ठित, प्रभु की जय-जयकार है (गीत)*
*जन्मभूमि में प्राण-प्रतिष्ठित, प्रभु की जय-जयकार है (गीत)*
Ravi Prakash
इन समंदर का तसव्वुर भी क्या ख़ूब होता है,
इन समंदर का तसव्वुर भी क्या ख़ूब होता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भूख-प्यास कहती मुझे,
भूख-प्यास कहती मुझे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बदले नहीं है आज भी लड़के
बदले नहीं है आज भी लड़के
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रेत और जीवन एक समान हैं
रेत और जीवन एक समान हैं
राजेंद्र तिवारी
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
Kumar lalit
Canine Friends
Canine Friends
Dhriti Mishra
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
Jatashankar Prajapati
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*प्रणय प्रभात*
'व्यथित मानवता'
'व्यथित मानवता'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"" *मन तो मन है* ""
सुनीलानंद महंत
Loading...