Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2016 · 1 min read

माँ तू ही मेरा सबकुछ

माँ तू ममता का सागर है ….
तुम्हीं से दुनिया वजूद यहाँ।
माँ तू ईश्वर का रूप है,
माँ तुम्ही से है मेरा जहाँ।

माँ तू ही मेरा सबकुछ,
न तुमसे प्यारी कोई अनुपम रूप।
मै बनके रहूँ सदा तेरे बेटा,
मुझमे खिली रहे ममता की धूप।

तुझे यशोदा पुकारू या और कुछ,
माँ तू ही मेरा सबकुछ।
हँसते-हँसाते मुझे बड़ा किया,
माँ तू ने झेली है कितनी दुःख।

सारे दुःख दूर हो जाता है,
माँ इतनी प्यारी है तेरी सुरत।
माँ तू जब दूर होती है,
तुमसे मिलने का होती है हसरत।

माँ तूने दी है अच्छे संस्कार,
और जलाई है ज्ञान दीप प्रकाश।
माँ तू ही मेरा सबकुछ,
माँ तुझ में हैं मेरा वास।

Language: Hindi
501 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मारी फूँकें तो गए , तन से सारे रोग(कुंडलिया)
मारी फूँकें तो गए , तन से सारे रोग(कुंडलिया)
Ravi Prakash
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
Rj Anand Prajapati
इश्किया होली
इश्किया होली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
किसी पत्थर पर इल्जाम क्यों लगाया जाता है
किसी पत्थर पर इल्जाम क्यों लगाया जाता है
कवि दीपक बवेजा
सच तो रंग काला भी कुछ कहता हैं
सच तो रंग काला भी कुछ कहता हैं
Neeraj Agarwal
तुम्हीं हो
तुम्हीं हो
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मंजिल
मंजिल
Swami Ganganiya
💐प्रेम कौतुक-486💐
💐प्रेम कौतुक-486💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन
जीवन
Rekha Drolia
कोरोना का संहार
कोरोना का संहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"वक्त वक्त की बात"
Pushpraj Anant
सादगी मुझमें हैं,,,,
सादगी मुझमें हैं,,,,
पूर्वार्थ
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
Phool gufran
*** हम दो राही....!!! ***
*** हम दो राही....!!! ***
VEDANTA PATEL
हिदायत
हिदायत
Bodhisatva kastooriya
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
जीवन
जीवन
sushil sarna
खरगोश
खरगोश
SHAMA PARVEEN
बिटिया  घर  की  ससुराल  चली, मन  में सब संशय पाल रहे।
बिटिया घर की ससुराल चली, मन में सब संशय पाल रहे।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
DrLakshman Jha Parimal
"किताबें"
Dr. Kishan tandon kranti
खोजें समस्याओं का समाधान
खोजें समस्याओं का समाधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*
*"हलषष्ठी मैया'*
Shashi kala vyas
2572.पूर्णिका
2572.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
Basant Bhagawan Roy
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...