Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

माँ तुझे प्रणाम

माँ तेरे चरणों में सादर वंदन ..

क्या लिखूं मैं माँ के बारे में खुद माँ ने ही तो मुझे लिखा है,
इस जग में आकर सब कुछ मैंने माँ से ही तो सीखा है।

खुद गीले में सो कर भी सूखे में मुझे सुलाती थी,
रात रात भर जाग जाग कर लोरी मुझे सुनाती थी।

जब चलना मैं सीख रहा था हर कदम लड़खड़ाता था,
तब उँगली पकड़कर तूने ही माँ चलना मुझे सिखाया था।

अपने मुँह का भी निवाला तूने मुझे खिलाया था,
खुद की भूख प्यास को भूल कर चैन से मुझे सुलाया था।

स्कूल जाने से पहले तूने मुझे पढ़ाया था,
मेरे स्कूल के पहले दिन पर तेरा मन घबराया था।

घर लौटने पर तूने मुझे सीने से अपने लगाया था,
ममता की शीतल छाँव देकर हर धूप से मुझे बचाया था।

ढेरों सवाल पूछ पूछ कर माँ मैंने तुझे कितना सताया था
एक बार भी गुस्सा दिखा कर तूने कहाँ मुझे चुप कराया था।

स्कूल में कॉलेज में तू मुझे हरदम याद आती थी,
जब भी मैं हिम्मत हारा तो हौंसला तू बढ़ाती थी।

जीवन के हर पथ पर तेरी नसीहत याद आती थी,
मेरी तरक्की के लिए तू हर भगवान को मानती थी।

सदा खुश रहे तू माँ मेरी उम्र भी तुझे लग जाए,
तेरी हर कष्ट पीड़ा हमेंशा के लिए मिट जाए।
तेरी हर कष्ट पीड़ा हमेंशा के लिए मिट जाए।
सुमित मानधना ‘गौरव’

534 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
सामाजिक कविता: पाना क्या?
सामाजिक कविता: पाना क्या?
Rajesh Kumar Arjun
बरगद पीपल नीम तरु
बरगद पीपल नीम तरु
लक्ष्मी सिंह
बारम्बार प्रणाम
बारम्बार प्रणाम
Pratibha Pandey
अंतिम पड़ाव
अंतिम पड़ाव
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ज़रा मुस्क़ुरा दो
ज़रा मुस्क़ुरा दो
आर.एस. 'प्रीतम'
हमने सुना था के उनके वादों में उन कलियों की खुशबू गौर से पढ़
हमने सुना था के उनके वादों में उन कलियों की खुशबू गौर से पढ़
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जा रहा हु...
जा रहा हु...
Ranjeet kumar patre
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
कवि रमेशराज
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
तितली संग बंधा मन का डोर
तितली संग बंधा मन का डोर
goutam shaw
अपनी क़ीमत
अपनी क़ीमत
Dr fauzia Naseem shad
"कहाँ छुपोगे?"
Dr. Kishan tandon kranti
वर्षा का भेदभाव
वर्षा का भेदभाव
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
surenderpal vaidya
अभी सत्य की खोज जारी है...
अभी सत्य की खोज जारी है...
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वक़्त का समय
वक़्त का समय
भरत कुमार सोलंकी
जल बचाओ, ना बहाओ।
जल बचाओ, ना बहाओ।
Buddha Prakash
बहुत बरस गुज़रने के बाद
बहुत बरस गुज़रने के बाद
शिव प्रताप लोधी
मोनू बंदर का बदला
मोनू बंदर का बदला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
धीरे धीरे उन यादों को,
धीरे धीरे उन यादों को,
Vivek Pandey
हीरा उन्हीं को  समझा  गया
हीरा उन्हीं को समझा गया
गुमनाम 'बाबा'
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
2963.*पूर्णिका*
2963.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
Manisha Manjari
due to some reason or  excuses we keep busy in our life but
due to some reason or excuses we keep busy in our life but
पूर्वार्थ
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...