Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2017 · 1 min read

माँ जाती जब झूम

आती हैं यादें कभी, बचपन की कुछ घूम !
शाला से घर लौटते, ..माँ लेती थी चूम !
पल में होते दूर सब, .जीवन के दुख दर्द ,
गोदी मे ले कर मुझे,.माँ जाती जब झूम!!
रमेश शर्मा.

Language: Hindi
1 Like · 449 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
sushil sarna
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
Mahima shukla
मन में नमन करूं..
मन में नमन करूं..
Harminder Kaur
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
आम आदमी की दास्ताँ
आम आदमी की दास्ताँ
Dr. Man Mohan Krishna
प्रश्न
प्रश्न
Dr MusafiR BaithA
वो इश्क की गली का
वो इश्क की गली का
साहित्य गौरव
चाय (Tea)
चाय (Tea)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
याराना
याराना
Skanda Joshi
*ओले (बाल कविता)*
*ओले (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
सहधर्मनी
सहधर्मनी
Bodhisatva kastooriya
अकेले तय होंगी मंजिले, मुसीबत में सब साथ छोड़ जाते हैं।
अकेले तय होंगी मंजिले, मुसीबत में सब साथ छोड़ जाते हैं।
पूर्वार्थ
विचार और विचारधारा
विचार और विचारधारा
Shivkumar Bilagrami
राजनीति का नाटक
राजनीति का नाटक
Shyam Sundar Subramanian
माना अपनी पहुंच नहीं है
माना अपनी पहुंच नहीं है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
Pooja Singh
बदनसीब डायरी
बदनसीब डायरी
Dr. Kishan tandon kranti
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"" *सिमरन* ""
सुनीलानंद महंत
ग़ज़ल __
ग़ज़ल __ "है हकीकत देखने में , वो बहुत नादान है,"
Neelofar Khan
नया युग
नया युग
Anil chobisa
রাধা মানে ভালোবাসা
রাধা মানে ভালোবাসা
Arghyadeep Chakraborty
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
'बेटी की विदाई'
'बेटी की विदाई'
पंकज कुमार कर्ण
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
Neeraj Agarwal
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
Dheeru bhai berang
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...