Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2022 · 1 min read

माँ के आँचल में छुप जाना

माँ के आँचल में छुप जाना
लगता बचपन बहुत सुहाना

आगे पीछे डोला करती
माँ बच्चों के लेकर खाना

हमें प्यार से सुबह जगाकर
भाता माँ का है दुलराना

जल्दी उठना जल्दी सोकर
नहीं छोड़ती माँ सिखलाना

माँ को काम भले हों कितने
नहीं भूलती दवा खिलाना

वे इस जग में खुशकिस्मत हैं
जिन्हें मिला माँ सा नज़राना

नहीं ‘अर्चना’ माँ सा कोई
माँ ममता से भरा खज़ाना

01-12-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
5 Likes · 155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
Shweta Soni
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
Dr. Man Mohan Krishna
गया राजपद प्रभु हर्षाए : कुछ चौपाइयॉं
गया राजपद प्रभु हर्षाए : कुछ चौपाइयॉं
Ravi Prakash
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
बहुत कीमती है दिल का सुकून
बहुत कीमती है दिल का सुकून
shabina. Naaz
सोच के रास्ते
सोच के रास्ते
Dr fauzia Naseem shad
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
शेखर सिंह
विश्वास
विश्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत
फितरत
Anujeet Iqbal
Kalebs Banjo
Kalebs Banjo
shivanshi2011
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
लोकतंत्र का मंत्र
लोकतंत्र का मंत्र
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
सन्देश खाली
सन्देश खाली
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कोशिश करना छोड़ो मत,
कोशिश करना छोड़ो मत,
Ranjeet kumar patre
गंवारा ना होगा हमें।
गंवारा ना होगा हमें।
Taj Mohammad
"किसान"
Slok maurya "umang"
कितनी अजब गजब हैं ज़माने की हसरतें
कितनी अजब गजब हैं ज़माने की हसरतें
Dr. Alpana Suhasini
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
Dr MusafiR BaithA
2962.*पूर्णिका*
2962.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं तुम और हम
मैं तुम और हम
Ashwani Kumar Jaiswal
भीड़ की नजर बदल रही है,
भीड़ की नजर बदल रही है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
Amit Pandey
पुष्पों का पाषाण पर,
पुष्पों का पाषाण पर,
sushil sarna
कबीरा यह मूर्दों का गांव
कबीरा यह मूर्दों का गांव
Shekhar Chandra Mitra
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...