Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 2 min read

माँ की संदूकची —–कविता

माँ की संदूकची

माँ तेरी सीख की संदूकची,

कितना कुछ होता था इस मे

तेरे आँचल की छाँव की कुछ कतलियाँ

ममता से भरी कुछ किरणे

दुख दर्द के दिनों मे जीने का सहारा

धूप के कुछ टुकडे,जो देते

कडी सीख ,जीवन के लिये

कुछ जरूरी नियम

तेरे हाथ से बुनी

सीख की एक रेशम की डोरी

जो सिखाती थी

परिवार मे रिश्तों को कैसे

बान्ध कर रखना

और बहुत कुछ था उसमे

तेरे हाथ से बनी

पुरानी साढी की एक गुडिया

जिसमे तेरे जीवन का हर रंग था

और गुडिया की आँखों मे

त्याग ,करुणा स्नेह, सहनशीलता

यही नारी के गुण

एक अच्छे परिवार और समाज की

संरचना करते हैं

तभी तो हर माँ

चाव से दहेज मे

ये संदूकची दिया करती थी

मगर माँ अब समय बहुत बदल गया है

शायद इस सन्दूकची को

नये जमाने की दीमक लग गयी है

अब मायें इसे देना

“आऊट आफ” फैशन समझने लगी है

समय की धार से कितने टुकडे हो गये है

इस रेशम की डोरी के

अब आते ही लडकियाँ

अपना अलग घर बनाने की

सोचने लगती हैं

कोई माँ अब डोरी नही बुनती

बुनना सिलना भी तो अब कहाँ रहा है

अब वो तेरे हाथ से बनी गुडिया जैसी

गुडिया भी तो नही बनती

बाजार मे मिलती हैं गुडिया

बडी सी, रिमोट से चलती है

जो नाचती गाती मस्त रहती है

ममता, करुणा, त्याग, सहनशीलता

पिछले जमाने की

वस्तुयें हो कर रह गयी हैं

लेकिन माँ

मैने जाना है

इस सन्दूकची ने मुझे कैसे

एक अच्छे परिवार का उपहार दिया

और मै सहेज रही हूँ एक और सन्दूकची

जैसे नानी ने तुझे और तू ने मुझे दी

इस रीत को तोडना नही चाहती

ताकि अभी भी बचे रहें

कुछ परिवार टूटने से

और हर माँ से कहूँगी

कि अगर दहेज देना है

तो इस सन्दूकची के बिना नही

Language: Hindi
Tag: कविता
3 Comments · 538 Views
You may also like:
हम तमाशा तो
Dr fauzia Naseem shad
प्यार
Satish Arya 6800
कहो‌ नाम
Varun Singh Gautam
पैसों का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
वो आवाज
Mahendra Rai
यूं ही नहीं इंजीनियर कहलाते हैं
kumar Deepak "Mani"
🌺🌤️जिन्दगी उगता हुआ सूरज है🌤️🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच्चा शिक्षक
gurudeenverma198
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
अपने घर से हार गया
सूर्यकांत द्विवेदी
यह दुनियाँ
Anamika Singh
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
कहीं मर न जाए
Seema 'Tu hai na'
कुनमुनी नींदे!!
Dr. Nisha Mathur
✍️आझादी की किंमत✍️
'अशांत' शेखर
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
हाल मत पूछो
Shekhar Chandra Mitra
आरजू
Kanchan Khanna
क्योंकि, हिंदुस्तान हैं हम !
Palak Shreya
हम रिश्तों में टूटे दरख़्त के पत्ते हो गए हैं।
Taj Mohammad
ममता
Rashmi Sanjay
इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गला रेत इंसान का,मार ठहाके हंसता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
भीड़
Shyam Sundar Subramanian
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
*समय सबसे बड़ा गुरु है, समय सब कुछ सिखाता है...
Ravi Prakash
हर घर तिरंगा अभियान कितना सार्थक ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...