Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

माँ का हीरो****

पढ़ ले बेटा पढ़ ले
कुछ कर ले
काम आयेगा
नहीं तो रह जायेगा
जीरो
मास्टर जी के गूंजते
ये शब्द….
सच में रुला देते थे
भारी कदमो से लौटते
स्कूल से घर,
दस में से दो या तीन
मिले नम्बर के साथ
ऊपर से बाप की डांट-
फटकार,
माँ का बचाना-सहलाना और
दुलार,
सच में हिम्मत देती थी
उसका कहना कौन कहता है
तुझको जीरो,
तू तो है मेरा हीरो
सुनकर ये फुल जाता था
ख़ुशी से सिना,
बुरी नजर से बचाता था
माँ का लगाया काला टिका
जो आज भी बचा रहा है
बुरी नजर से
माँ की दी दुआएँ के साथ,
काला टिका*
कुछ भी हो था तो अपनी माँ का
हीरो*

*****दिनेश शर्मा*****

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 815 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
गोलगप्पा/पानीपूरी
गोलगप्पा/पानीपूरी
लक्ष्मी सिंह
ਦਿਲ ਦਾ ਗੁਲਾਬ
ਦਿਲ ਦਾ ਗੁਲਾਬ
Surinder blackpen
जीवन की जर्जर कश्ती है,तुम दरिया हो पार लगाओ...
जीवन की जर्जर कश्ती है,तुम दरिया हो पार लगाओ...
दीपक झा रुद्रा
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
Dr MusafiR BaithA
कब तक बचोगी तुम
कब तक बचोगी तुम
Basant Bhagawan Roy
चलो आज कुछ बात करते है
चलो आज कुछ बात करते है
Rituraj shivem verma
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
gurudeenverma198
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
Ram Krishan Rastogi
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
इश्क़ में
इश्क़ में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ ज़ुबान संभाल के...
■ ज़ुबान संभाल के...
*Author प्रणय प्रभात*
अपने  में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
अपने में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
DrLakshman Jha Parimal
आज की प्रस्तुति: भाग 7
आज की प्रस्तुति: भाग 7
Rajeev Dutta
ये मौन अगर.......! ! !
ये मौन अगर.......! ! !
Prakash Chandra
जीवन का  स्वर्ण काल : साठ वर्ष की आयु
जीवन का स्वर्ण काल : साठ वर्ष की आयु
Ravi Prakash
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ऐलान कर दिया....
ऐलान कर दिया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जल संरक्षण
जल संरक्षण
Preeti Karn
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
कवि रमेशराज
एक फूल खिला आगंन में
एक फूल खिला आगंन में
shabina. Naaz
काल  अटल संसार में,
काल अटल संसार में,
sushil sarna
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
Harminder Kaur
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
Keshav kishor Kumar
बींसवीं गाँठ
बींसवीं गाँठ
Shashi Dhar Kumar
2851.*पूर्णिका*
2851.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
बेकारी का सवाल
बेकारी का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...