Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

माँ का एहसास

कृपा तेरी है माँ ,
माँ मै सोया न अब तक,
नींद न आई मुझे वैसे,
बचपन में तू ने जब सुलाया,
गा गा कर मीठी-मीठी लोरी,
भुला अपने सारे दुःख को,
देख के मुख तेरा आँखों से,
आँखों में प्यार जो दिखता,
वैसा प्यार नहीं कहीं और जग में,
शरारतें भी तुझको लगती अच्छी,
कहती न कुछ सिर्फ ख्याल रखती,
एक-एक दृश्य इस जग का,
देखना मुझे तुम सिखाती,
जन्म से भी पहले माँ तुम,
एहसास मुझे तुम कराती,
छाँव में तेरे अब मैं आया,
सुकून से सुला दो माँ ,
गा दो लोरी वो फिर से,
खो जाऊँ सपनो की उस जहाँ में,
देख के तुम मुझे मुस्कुराती,
माँ तेरे प्यार के अटूट बंधन में बँध जाऊँ ।

रचनाकार ✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा ,
हमीरपुर।

3 Likes · 480 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
Keshav kishor Kumar
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
फेसबुक गर्लफ्रेंड
फेसबुक गर्लफ्रेंड
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
2813. *पूर्णिका*
2813. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
याद अमानत बन गयी, लफ्ज़  हुए  लाचार ।
याद अमानत बन गयी, लफ्ज़ हुए लाचार ।
sushil sarna
जन्मपत्री / मुसाफ़िर बैठा
जन्मपत्री / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
हर रोज वहीं सब किस्से हैं
हर रोज वहीं सब किस्से हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
छोड़ दो
छोड़ दो
Pratibha Pandey
ना वह हवा ना पानी है अब
ना वह हवा ना पानी है अब
VINOD CHAUHAN
ना देखा कोई मुहूर्त,
ना देखा कोई मुहूर्त,
आचार्य वृन्दान्त
"बेचैनियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
शेखर सिंह
*The Bus Stop*
*The Bus Stop*
Poonam Matia
सत्य सनातन गीत है गीता
सत्य सनातन गीत है गीता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
*बात-बात में बात (दस दोहे)*
*बात-बात में बात (दस दोहे)*
Ravi Prakash
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
Paras Nath Jha
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
हिजरत - चार मिसरे
हिजरत - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
ओनिका सेतिया 'अनु '
चँचल हिरनी
चँचल हिरनी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हो भासा विग्यानी।
हो भासा विग्यानी।
Acharya Rama Nand Mandal
....प्यार की सुवास....
....प्यार की सुवास....
Awadhesh Kumar Singh
Loading...