Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

माँ का आशीर्वाद पकयें

#दिनांक:-15/10/2023
#शीर्षक:-मॉं का आशीर्वाद पायें।

दुर्गा, चण्डी, कात्यायनी, अधिष्ठात्री,
हे माँ आओ गृह मेरे लेकर नवरात्री नवरूपधात्री ।

हाथी पर सवार माँ सुख-समृद्धि खुशियाँ दे दो ,
प्राण प्रतिष्ठा और अद्भुत शक्ति का संचार कर दो |

नवरूपा जगदम्बा, चामुण्डा जग माता,
दानव दमन करो,नव दिन करूॅ जगराता।

माता की चौकी पर कलश स्थापित कर,
सिन्दूर, अक्षत आम के पण से सजाया,
किया श्रृंगार तेरा,नीलाम्बर धवल हरषाया ,

गुड़हल फूल माता मन भावे ,
जगमाता, शीतला माता को ,
चना बताशा पूरी हलवा चढावे |

नवमी कन्याओं का पूजन करायें,
हवन करें, माँ का आशीर्वाद पायें |

सदा सुहागन का अमर सौभाग्य मांगू ,
कामना को पूरा करती ,
मातारानी से जग खुशिहाली का वरदान मांगू|

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक पूरी सभ्यता बनाई है
एक पूरी सभ्यता बनाई है
Kunal Prashant
चाहता हे उसे सारा जहान
चाहता हे उसे सारा जहान
Swami Ganganiya
कर्म कभी माफ नहीं करता
कर्म कभी माफ नहीं करता
नूरफातिमा खातून नूरी
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
अभिमान
अभिमान
Neeraj Agarwal
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
Kr. Praval Pratap Singh Rana
जिसे ये पता ही नहीं क्या मोहब्बत
जिसे ये पता ही नहीं क्या मोहब्बत
Ranjana Verma
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
शेखर सिंह
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम निभाना
प्रेम निभाना
लक्ष्मी सिंह
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
आर.एस. 'प्रीतम'
23/39.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/39.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नयकी दुलहिन
नयकी दुलहिन
आनन्द मिश्र
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
ओनिका सेतिया 'अनु '
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
Shakil Alam
आँख अब भरना नहीं है
आँख अब भरना नहीं है
Vinit kumar
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
■ दोमुंहा-सांप।।
■ दोमुंहा-सांप।।
*Author प्रणय प्रभात*
*सच्चाई यह जानिए, जीवन दुःख-प्रधान (कुंडलिया)*
*सच्चाई यह जानिए, जीवन दुःख-प्रधान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक- 292💐
💐प्रेम कौतुक- 292💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"लक्ष्य"
Dr. Kishan tandon kranti
हे भगवान तुम इन औरतों को  ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
हे भगवान तुम इन औरतों को ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
Dr. Man Mohan Krishna
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
gurudeenverma198
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
Rj Anand Prajapati
मा भारती को नमन
मा भारती को नमन
Bodhisatva kastooriya
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
Vandna Thakur
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...