Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2022 · 1 min read

माँ कात्यायनी

प्यारा षष्ठी रूप है, कात्यायनी सुनाम ।
श्रद्धा भाव उपासना, मिले मोक्ष सुखधाम।।
मिले मोक्ष सुखधाम, तारती माँ जगदम्बे।
महिमा अपरंपार, हरे विपदा सब अम्बे ।।
वरमुद्रा में हाथ, कृपामय जग यह सारा ।
चमकीला है वर्ण, रूप अतुलित है प्यारा ।।

वन्दना नामदेव

1 Like · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
हार भी स्वीकार हो
हार भी स्वीकार हो
Dr fauzia Naseem shad
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
Harminder Kaur
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
I know people around me a very much jealous to me but I am h
I know people around me a very much jealous to me but I am h
Ankita Patel
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
💜सपना हावय मोरो💜
💜सपना हावय मोरो💜
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
सूरज को ले आता कौन?
सूरज को ले आता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
"समझाइश "
Yogendra Chaturwedi
बम भोले।
बम भोले।
Anil Mishra Prahari
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
*मृत्यु : चौदह दोहे*
*मृत्यु : चौदह दोहे*
Ravi Prakash
राजनीति का नाटक
राजनीति का नाटक
Shyam Sundar Subramanian
किसी औरत से
किसी औरत से
Shekhar Chandra Mitra
.*यादों के पन्ने.......
.*यादों के पन्ने.......
Naushaba Suriya
Never settle for less than you deserve.
Never settle for less than you deserve.
पूर्वार्थ
मेहनत का फल
मेहनत का फल
Pushpraj Anant
"मंजर"
Dr. Kishan tandon kranti
ख़्बाब आंखों में बंद कर लेते - संदीप ठाकुर
ख़्बाब आंखों में बंद कर लेते - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
।।बचपन के दिन ।।
।।बचपन के दिन ।।
Shashi kala vyas
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
*ख़ास*..!!
*ख़ास*..!!
Ravi Betulwala
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
Loading...