Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2023 · 1 min read

माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,

माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
अम्बे मेरा तन मन तुमसे, शेष भला क्या कहने को,
शक्ति तुम प्रकृति तुम, मां तुम ही प्राणाधार हो,
सर पर हाथ, मेरे रखो, शरण में अपनी जीने दो,
जय माता की

444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सुरेंद्र शर्मा, मरे नहीं जिन्दा हैं"
Anand Kumar
हमने तुमको दिल दिया...
हमने तुमको दिल दिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
Shubham Pandey (S P)
फूलों सी मुस्कुराती हुई शान हो आपकी।
फूलों सी मुस्कुराती हुई शान हो आपकी।
Phool gufran
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Shashi Dhar Kumar
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Dr.Priya Soni Khare
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
Mahendra Narayan
मैं  ज़्यादा  बोलती  हूँ  तुम भड़क जाते हो !
मैं ज़्यादा बोलती हूँ तुम भड़क जाते हो !
Neelofar Khan
फूल ही फूल संग
फूल ही फूल संग
Neeraj Agarwal
राम
राम
Sanjay ' शून्य'
अजनबी जैसा हमसे
अजनबी जैसा हमसे
Dr fauzia Naseem shad
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
Vedha Singh
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2610.पूर्णिका
2610.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🤔कौन हो तुम.....🤔
🤔कौन हो तुम.....🤔
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
तीन मुट्ठी तन्दुल
तीन मुट्ठी तन्दुल
कार्तिक नितिन शर्मा
स्टेटस
स्टेटस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जो होता है सही  होता  है
जो होता है सही होता है
Anil Mishra Prahari
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
surenderpal vaidya
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
कवि रमेशराज
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
Neelam Sharma
मेरी भी सुनो
मेरी भी सुनो
भरत कुमार सोलंकी
■ जितनी जल्दी समझ लो उतना बढ़िया।
■ जितनी जल्दी समझ लो उतना बढ़िया।
*प्रणय प्रभात*
*बात सही है खाली हाथों, दुनिया से सब जाऍंगे (हिंदी गजल)*
*बात सही है खाली हाथों, दुनिया से सब जाऍंगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
मजदूर है हम
मजदूर है हम
Dinesh Kumar Gangwar
"बेकसूर"
Dr. Kishan tandon kranti
स्त्री यानी
स्त्री यानी
पूर्वार्थ
Loading...