Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

*माँ कटार-संग लाई हैं* *(घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद )*

माँ कटार-संग लाई हैं (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद )
_________________________
आई हैं तैयार हो के सिंह पे सवार हो के
करती प्रहार माँ कटार-संग लाई हैं
लाई हैं अचूक शक्ति दानव-संहार हेतु
देवी की भुजाऍं यह अष्ट-वर‌दाई हैं
वरदाई हैं भरेंगी भारत में नव-नाद
सिंह‌नाद-जैसी ध्वनियाँ ही आज छाई हैं
छाई हैं दसों दिशाऍं आज वीर भावना में
घड़ि‌याँ पराजय की शत्रुओं की आई हैं
—————————————-
रचयिता:रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा,रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 1 Comment · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
Kishore Nigam
भावुक हृदय
भावुक हृदय
Dr. Upasana Pandey
*मैं शायर बदनाम*
*मैं शायर बदनाम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बूँद बूँद याद
बूँद बूँद याद
Atul "Krishn"
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
Shweta Soni
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
Keshav kishor Kumar
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
SHAMA PARVEEN
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
*बाद मरने के शरीर, तुरंत मिट्टी हो गया (मुक्तक)*
*बाद मरने के शरीर, तुरंत मिट्टी हो गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
महोब्बत की बस इतनी सी कहानी है
महोब्बत की बस इतनी सी कहानी है
शेखर सिंह
हर मसाइल का हल
हर मसाइल का हल
Dr fauzia Naseem shad
कोरोना का आतंक
कोरोना का आतंक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3367.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3367.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
ruby kumari
जीवन संवाद
जीवन संवाद
Shyam Sundar Subramanian
॰॰॰॰॰॰यू॰पी की सैर॰॰॰॰॰॰
॰॰॰॰॰॰यू॰पी की सैर॰॰॰॰॰॰
Dr. Vaishali Verma
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बादल गरजते और बरसते हैं
बादल गरजते और बरसते हैं
Neeraj Agarwal
पछतावे की अग्नि
पछतावे की अग्नि
Neelam Sharma
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
"कुछ अइसे करव"
Dr. Kishan tandon kranti
मान तुम प्रतिमान तुम
मान तुम प्रतिमान तुम
Suryakant Dwivedi
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
" करवा चौथ वाली मेहंदी "
Dr Meenu Poonia
Loading...