Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

माँ आई

शेर पे सवार माँ आई
नवरात्रि की सबको बधाई

सज गये सब घर और द्वारे
जय कारा दे माँ को पुकारे
माता के नौ रूप निराले
कितने पावन भोले भाले

शैल पुत्री प्रथम कहलाती
मनभावन सा रूप दिखलाती
दुसरी आई बह्मचारिणी
मंगलकारिणी दुख निवारिणी

चंद्रघंटा का रूप तीसरा
दुख पीड़ा को हर जन बिसरा
कुष्मांडा फिर चतुर्थ आई
कांतिमय आभा दिखलाई

पंचम स्कंदमाता कहलाती
कार्तिकेय संग पूजी जाती
छटे रूप में कात्यायनी तुम

जग जननी अधिष्ठात्री हो तुम
सप्तम रूप कालरात्री पाया
दर्शन पाकर मन हर्षाया

आठवी होती महागौरी
पूजे मिलकर सब नर नारी

नवम रूप में सिद्धिदात्री तुम ही
सुख समृद्धि की दात्री तुम ही

आओ ढोल नगाडा बजायें
मिलके सब नवरात्रि मनाये।

326 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जां से बढ़कर है आन भारत की
जां से बढ़कर है आन भारत की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
उस चाँद की तलाश में
उस चाँद की तलाश में
Diwakar Mahto
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
स्वभाव
स्वभाव
अखिलेश 'अखिल'
यह मेरी मजबूरी नहीं है
यह मेरी मजबूरी नहीं है
VINOD CHAUHAN
23/32.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/32.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पापा की परी
पापा की परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ख़ुद की खोज
ख़ुद की खोज
Surinder blackpen
तू होती तो
तू होती तो
Satish Srijan
हमको तंहाई का
हमको तंहाई का
Dr fauzia Naseem shad
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
Shweta Soni
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अगर प्रफुल्ल पटेल
अगर प्रफुल्ल पटेल
*प्रणय प्रभात*
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
Neelam Sharma
"बच सकें तो"
Dr. Kishan tandon kranti
मानवता दिल में नहीं रहेगा
मानवता दिल में नहीं रहेगा
Dr. Man Mohan Krishna
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
काव्य
काव्य
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
पूर्वार्थ
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
एक संदेश युवाओं के लिए
एक संदेश युवाओं के लिए
Sunil Maheshwari
शांति से खाओ और खिलाओ
शांति से खाओ और खिलाओ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सदद्विचार
सदद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...