Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

महिला दिवस विशेष दोहे

मिशन शक्ति की धूम है,सुंदर है परिवेश।
चर्चा नारी की बढ़ी,अपने प्यारे देश।।

पढ़े बालिका खूब अरु,पाए समुचित स्थान।
तभी शक्ति उसकी बढ़े,समझो अगर विधान।।

उच्च सोच अरु ज्ञान से,मिलता सत आधार।
हर नारी यदि ले समझ,पाए शक्ति अपार।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

Language: Hindi
1 Like · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लौट  आते  नहीं  अगर  बुलाने   के   बाद
लौट आते नहीं अगर बुलाने के बाद
Anil Mishra Prahari
छोटी कहानी -
छोटी कहानी - "पानी और आसमान"
Dr Tabassum Jahan
निश्छल प्रेम के बदले वंचना
निश्छल प्रेम के बदले वंचना
Koमल कुmari
युग युवा
युग युवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
****भाई दूज****
****भाई दूज****
Kavita Chouhan
2890.*पूर्णिका*
2890.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
पूर्वार्थ
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मां से ही तो सीखा है।
मां से ही तो सीखा है।
SATPAL CHAUHAN
प्रेम मे धोखा।
प्रेम मे धोखा।
Acharya Rama Nand Mandal
आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अन्तर होता है
आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अन्तर होता है
शेखर सिंह
जो महा-मनीषी मुझे
जो महा-मनीषी मुझे
*प्रणय प्रभात*
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"बदनामियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
--> पुण्य भूमि भारत <--
--> पुण्य भूमि भारत <--
Ms.Ankit Halke jha
49....Ramal musaddas mahzuuf
49....Ramal musaddas mahzuuf
sushil yadav
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुस्कराहटों के पीछे
मुस्कराहटों के पीछे
Surinder blackpen
मेहनत ही सफलता
मेहनत ही सफलता
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
सियासत
सियासत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नयकी दुलहिन
नयकी दुलहिन
आनन्द मिश्र
हां अब भी वह मेरा इंतजार करती होगी।
हां अब भी वह मेरा इंतजार करती होगी।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
लोग भी हमें अच्छा जानते होंगे,
लोग भी हमें अच्छा जानते होंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
5. *संवेदनाएं*
5. *संवेदनाएं*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटा तेरे बिना माँ
बेटा तेरे बिना माँ
Basant Bhagawan Roy
Loading...