Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब

महिला दिवस
कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब

शहर
उफ ! मैं तो थक गई
कहां-कहां सम्मान..
बिस्तर पर स्मृति चिह्न
सपनों में महिला दिवस।
इसका मैसेज, उसकी कॉल
कहाँ जाऊं, सबकी कॉल

गांव
हुक्का भरा, कुट्टी काटी
फसल बोई, फसल काटी
सुना है आज कुछ था…
छोड़ो, हमारा नहीं था।

नौकरी
दफ्तरों में स्वागत
घर आते ही आफत
ये करो, खाना बनाओ
छुट्टी क्यों नहीं होती…।।

घर
सुबह से ही आश्चर्य
सास-बहू दोनों खुश
काश हर दिन ऐसा हो
प्यार का महिला दिवस हो।

साहित्य
खुद पर लिखी कविता
छंद-अलंकारों से सजी
वाह वाह सबकी मिली
आह आह जिंदगी कटी।।

मां
रसोई में मां
पलंग पर मां
बेसाख्ता दर्द
दवा खामोश

मजदूर
मेरी लाचारी
दो रोटी-पानी
हे मेरे भगवान
मैं भी हूं नारी।।

इतने बिंब लिखकर
एक सवाल उभरा
यह…….महिला दिवस
शहरोंं में ही क्यों होता है ????

….एक पुरुष भीगे नयनों से देख रहा था प्रलय प्रवाह ( कामायनी)

-सूर्यकांत द्विवेदी

93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3030.*पूर्णिका*
3030.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
Ravi Prakash
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
"चालाकी"
Ekta chitrangini
উত্তর দাও পাহাড়
উত্তর দাও পাহাড়
Arghyadeep Chakraborty
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Neelam Sharma
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
शक्तिशाली
शक्तिशाली
Raju Gajbhiye
" गुरु का पर, सम्मान वही है ! "
Saransh Singh 'Priyam'
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
शेखर सिंह
■ अक़्सर...
■ अक़्सर...
*Author प्रणय प्रभात*
*हम तो हम भी ना बन सके*
*हम तो हम भी ना बन सके*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"प्रार्थना"
Dr. Kishan tandon kranti
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फूल तो फूल होते हैं
फूल तो फूल होते हैं
Neeraj Agarwal
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"चलो जी लें आज"
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
जोमाटो वाले अंकल
जोमाटो वाले अंकल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भारत देश
भारत देश
लक्ष्मी सिंह
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
सत्य कुमार प्रेमी
Aaj Aankhe nam Hain,🥹
Aaj Aankhe nam Hain,🥹
SPK Sachin Lodhi
रूपमाला
रूपमाला
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...