Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ

महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ

जय अविनाशी, घट – घट वासी, उमानाथ, त्रिपुरारी।
शंभु त्रिलोचन, भव भय मोचन, नीलकंठ, विषधारी।
भस्म रमायें, ध्यान लगायें , शिव भोले, भंडारी।
कठिन अघोरी, वामे गौरी , शूलपाणि, अहिधारी।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’

1 Like · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
View all
You may also like:
*मोटू (बाल कविता)*
*मोटू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कविता -
कविता - "बारिश में नहाते हैं।' आनंद शर्मा
Anand Sharma
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
Rj Anand Prajapati
लाखों रावण पहुंच गए हैं,
लाखों रावण पहुंच गए हैं,
Pramila sultan
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹
🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹
Dr Shweta sood
ये लोकतंत्र की बात है
ये लोकतंत्र की बात है
Rohit yadav
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
पूर्वार्थ
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
मेरी कलम......
मेरी कलम......
Naushaba Suriya
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
Manisha Manjari
"सुगर"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
Mamta Singh Devaa
नता गोता
नता गोता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
काव्य_दोष_(जिनको_दोहा_छंद_में_प्रमुखता_से_दूर_रखने_ का_ प्रयास_करना_चाहिए)*
काव्य_दोष_(जिनको_दोहा_छंद_में_प्रमुखता_से_दूर_रखने_ का_ प्रयास_करना_चाहिए)*
Subhash Singhai
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरे बुद्ध महान !
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शिल्पकार
शिल्पकार
Surinder blackpen
दुनिया की ज़िंदगी भी
दुनिया की ज़िंदगी भी
shabina. Naaz
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
Paras Nath Jha
अति-उताक्ली नई पीढ़ी
अति-उताक्ली नई पीढ़ी
*Author प्रणय प्रभात*
चेहरे की मुस्कान छीनी किसी ने किसी ने से आंसू गिराए हैं
चेहरे की मुस्कान छीनी किसी ने किसी ने से आंसू गिराए हैं
Anand.sharma
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हम हँसते-हँसते रो बैठे
हम हँसते-हँसते रो बैठे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...