Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Dec 2022 · 1 min read

महामना मदन मोहन मालवीय

भारत रत्न महामना मदन मोहन मालवीय –

नैतिकता मर्यदा का युग श्रेष्ठ प्रमाण ।
विनम्रता योग्यता आचरण संस्कृति अनुग्रह अनुष्ठान
जन्म जीवन का बोध सत्य महान।।

जीवन पथ के संघर्षो का स्वंय चुनांव भरत भारत का स्वर शंख नाद।।

कानून विद पत्रकार भारत स्वतंत्रता संग्राम मनीषि त्यागी तपसी बैरागी।।

युग का बड़ा भिखारी स्वतंत्रता कि सच्चाई सरस्वती का सेवक ब्रह्म तत्व वेत्ता इतिहास पुरूष काल पुरुष ।।

मालवा का मालवीय नव सूर्योदय चेतना का महामना भारत के जन जन का आकर्षण मोहन।।

स्वतंत्रता के मतवाले चौरी चौरा कांड के अभियुक्तों के पक्षकार।।

न्याय युद्ध के सारथी महारथी मदन स्वतंत्रता संग्राम के विनम्र दृढ़ अडिग चट्टान।।

सागर सा गहरा चित्त शांत राष्ट्र भक्ति निष्ठा ईमानदार ।।

जीवन का पल पल भारत कि स्वतंत्रता का विजयी विश्व भाव।।

भारत रत्न महामना युग पुरुष पराक्रम चेतना जागृत कि मिशाल मशाल।।

भरत भारत का वर्तमान नतमस्तक हो चिंतक शिल्पी सारथी महारथी पत्रकार कानून विद निष्ठा ईमानदारी का धन्य धरोहर है मन ओज मदन मन आकर्षक मोहन मालवा पराक्रम मानवीय को करता शत शत नमन।।

शिक्षा के मन्दिर देवालय के शिल्पी काशी विद्वत गौरव को कोटि कोटि प्रणाम।।

नन्दलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर गोरखपुर उतर प्रदेश।।

Language: Hindi
176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
#दोहे
#दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
सुनो - दीपक नीलपदम्
सुनो - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आदि शंकराचार्य
आदि शंकराचार्य
Shekhar Chandra Mitra
*सात शेर*
*सात शेर*
Ravi Prakash
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आंधी है नए गांधी
आंधी है नए गांधी
Sanjay ' शून्य'
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
हे गर्भवती !
हे गर्भवती !
Akash Yadav
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
Bhupendra Rawat
ज़िंदगी फिर भी हमें
ज़िंदगी फिर भी हमें
Dr fauzia Naseem shad
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
Phool gufran
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
लक्ष्मी सिंह
शायद ...
शायद ...
हिमांशु Kulshrestha
ख़ुद्दार बन रहे हैं पर लँगड़ा रहा ज़मीर है
ख़ुद्दार बन रहे हैं पर लँगड़ा रहा ज़मीर है
पूर्वार्थ
"सफलता की चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
खंडकाव्य
खंडकाव्य
Suryakant Dwivedi
যখন হৃদয় জ্বলে, তখন প্রদীপ জ্বালানোর আর প্রয়োজন নেই, হৃদয়ে
যখন হৃদয় জ্বলে, তখন প্রদীপ জ্বালানোর আর প্রয়োজন নেই, হৃদয়ে
Sakhawat Jisan
कितना सकून है इन , इंसानों  की कब्र पर आकर
कितना सकून है इन , इंसानों की कब्र पर आकर
श्याम सिंह बिष्ट
💐प्रेम कौतुक-303💐
💐प्रेम कौतुक-303💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
Chandra Kanta Shaw
परिभाषाएं अनगिनत,
परिभाषाएं अनगिनत,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
2318.पूर्णिका
2318.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
Loading...