Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

महाकाल भोले भंडारी|

महाकाल भोले भंडारी,

नीलकंठ बाघंबरधारी।

मस्तक पर शीतल शशि शोभित,
सिर पे गंगा करती मोहित।
वैरागी कैलाशी शंकर,
भैरव इनका रूप भयंकर।
विरूपाक्ष हे कपालधारी,
महाकाल भोले भंडारी।

वामदेव सदाशिव स्वर्मयी,
पाशविमोचन भर्ग अव्ययी।
कलयुग दुष्टों को संहारो,
हे परमेश्वर सबको तारो।
अंबिकानाथ त्रिशूलधारी,
महाकाल भोले भंडारी।

पापों औ’ तापों के हारक,
शिवाप्रिय पशुपति जगपालक।
हे परमेश्वर आदि अनीश्वर,
उग्र कपाली काल गिरिश्वर।
दया करो नीलकंठधारी,
महाकाल भोले भंडारी।
-वेधा सिंह

74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Vedha Singh
View all
You may also like:
आशार
आशार
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
#विश्व_वृद्धजन_दिवस_पर_आदरांजलि
#विश्व_वृद्धजन_दिवस_पर_आदरांजलि
*प्रणय प्रभात*
कोई बाहों में होकर भी दिल से बहुत दूर था,
कोई बाहों में होकर भी दिल से बहुत दूर था,
Ravi Betulwala
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
लाइब्रेरी की दीवारों में, सपनों का जुनून
लाइब्रेरी की दीवारों में, सपनों का जुनून
पूर्वार्थ
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
Sanjay ' शून्य'
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
Akash Yadav
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
Rekha khichi
जाति  धर्म  के नाम  पर, चुनने होगे  शूल ।
जाति धर्म के नाम पर, चुनने होगे शूल ।
sushil sarna
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आओ लौट चले
आओ लौट चले
Dr. Mahesh Kumawat
मै तो हूं मद मस्त मौला
मै तो हूं मद मस्त मौला
नेताम आर सी
*
*"शिक्षक"*
Shashi kala vyas
चाँदी की चादर तनी, हुआ शीत का अंत।
चाँदी की चादर तनी, हुआ शीत का अंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
कोई भोली समझता है
कोई भोली समझता है
VINOD CHAUHAN
सुमति
सुमति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चौराहे पर....!
चौराहे पर....!
VEDANTA PATEL
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
कवि रमेशराज
2715.*पूर्णिका*
2715.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप अपना
आप अपना
Dr fauzia Naseem shad
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
ख़्वाहिशें
ख़्वाहिशें
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
पहली बारिश..!
पहली बारिश..!
Niharika Verma
"साजिश"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...