Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2022 · 1 min read

*महाकाल चालीसा*

महाकाल चालीसा

जय महाकालेश्वराय नमः
धरती ,आकाश ,पताल सुरक्षित कर:

जगत पूजिता त्रिशूलधारी ,
डमरू धारी ,
तांडव कारी ।
नीलकंठ ।सिर पर चंद्र बिराजे ।।
गले में सर्प धारी ।
पहने बघछाली ।।

संकट आवे,
शिव शंकर पुकारे ।
विश्व रचिता ।
ते हू नाम गुनावे ।।
प्रलय आवे ।
त्रिनेत्र दिखावे ।।
इंद्रलोक तो यूं ही साजे ।
तू तो कैलाश पर्वत पर विराजे ।।

महादेव नाम गुनावे ।
लोगों के मनोकामना पूर्ण करावे।।

8 Likes · 2 Comments · 318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
2847.*पूर्णिका*
2847.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
सत्य कुमार प्रेमी
नारी रखे है पालना l
नारी रखे है पालना l
अरविन्द व्यास
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
Shashi kala vyas
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
Subhash Singhai
कुसुमित जग की डार...
कुसुमित जग की डार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
#तेवरी
#तेवरी
*Author प्रणय प्रभात*
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
सर्दियों की धूप
सर्दियों की धूप
Vandna Thakur
लक्ष्य
लक्ष्य
लक्ष्मी सिंह
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐प्रेम कौतुक-505💐
💐प्रेम कौतुक-505💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
वो अनुराग अनमोल एहसास
वो अनुराग अनमोल एहसास
Seema gupta,Alwar
प्रेम
प्रेम
Pratibha Pandey
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
कुछ करो ऐसा के अब प्यार सम्भाला जाये
कुछ करो ऐसा के अब प्यार सम्भाला जाये
shabina. Naaz
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
मातृ दिवस या मात्र दिवस ?
मातृ दिवस या मात्र दिवस ?
विशाल शुक्ल
देखो ना आया तेरा लाल
देखो ना आया तेरा लाल
Basant Bhagawan Roy
प्रहार-2
प्रहार-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
आंखन तिमिर बढ़ा,
आंखन तिमिर बढ़ा,
Mahender Singh
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मुर्दा समाज
मुर्दा समाज
Rekha Drolia
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
bhandari lokesh
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
Anil chobisa
Loading...