Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

महाकालेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन

आदिकाल से महावन में महाकालेश्वर बैठे हैं
कालों के भी महाकाल,राज राजेश्वर बैठे हैं
ब्रम्हा विष्णु महेश नित्य, आराधना में लीन हैं
तीनों ही हैं दिव्य ज्योति, दिखने में लगते तीन हैं
देव आरती करें निरंतर,दश दिकपाल जहां बैठे हैं
सूर्य चंद्र नवग्रह सब लोकपाल बैठे हैं
सप्त ऋषि और शेष शारदा,सप्त सागर बैठे हैं
मोक्षदायिनी क्षिप्रा तट पर,कोटि तीर्थ बैठे हैं
मातृशक्ति के रूप विविध, शिव ध्यान लगाए बैठे
देव दनुज नर किन्नर सारे, आस लगाए बैठे हैं
महाकाल के महालोक में,सब लोक समाए बैठे हैं
महाकाल लोक के लोकार्पण पर सभी देशवासियों को हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 1114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
23/21.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/21.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
छाऊ मे सभी को खड़ा होना है
छाऊ मे सभी को खड़ा होना है
शेखर सिंह
13, हिन्दी- दिवस
13, हिन्दी- दिवस
Dr Shweta sood
If you have  praising people around you it means you are lac
If you have praising people around you it means you are lac
Ankita Patel
जीवन के अंतिम दिनों में गौतम बुद्ध
जीवन के अंतिम दिनों में गौतम बुद्ध
कवि रमेशराज
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
जीत
जीत
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"अन्दर ही अन्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगी की अहमियत
ज़िंदगी की अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
पुकार
पुकार
Manu Vashistha
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
डॉ.सीमा अग्रवाल
■लगाओ नारा■
■लगाओ नारा■
*Author प्रणय प्रभात*
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
एक अर्सा हुआ है
एक अर्सा हुआ है
हिमांशु Kulshrestha
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
आवो पधारो घर मेरे गणपति
आवो पधारो घर मेरे गणपति
gurudeenverma198
मेरा कल! कैसा है रे तू
मेरा कल! कैसा है रे तू
Arun Prasad
हाय.
हाय.
Vishal babu (vishu)
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
सकारात्मकता
सकारात्मकता
Sangeeta Beniwal
हाय अल्ला
हाय अल्ला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम
तुम
Punam Pande
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...