Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

महसूस होता है जमाने ने ,

महसूस होता है जमाने ने ,
अपने गिरेबान में झांकना छोड़ दिया है ।
तभी तो जग में शिकायतों के शोर जायदा,
और आत्म ग्लानि की खामोशी कहीं गुम सी हो गई है ।

Language: Hindi
1 Like · 403 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
■ चाची 42प का उस्ताद।
■ चाची 42प का उस्ताद।
*Author प्रणय प्रभात*
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
Arti Bhadauria
*** मैं प्यासा हूँ ***
*** मैं प्यासा हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
*सरिता में दिख रही भॅंवर है, फॅंसी हुई ज्यों नैया है (हिंदी
*सरिता में दिख रही भॅंवर है, फॅंसी हुई ज्यों नैया है (हिंदी
Ravi Prakash
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
yuvraj gautam
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
Shweta Soni
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
3125.*पूर्णिका*
3125.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
Khaimsingh Saini
वर्ण पिरामिड
वर्ण पिरामिड
Neelam Sharma
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
मां
मां
Manu Vashistha
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां शारदे कृपा बरसाओ
मां शारदे कृपा बरसाओ
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हमने माना
हमने माना
SHAMA PARVEEN
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
मजदूर की मजबूरियाँ ,
मजदूर की मजबूरियाँ ,
sushil sarna
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...