Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

महमहाई रातभर

झूमती
डाली लता की
महमहाई रात भर ।

शाम ढलते
ही मदिर सी
गन्ध कोई छू गई
नेह में 
डूबी हुई सिहरन
जगी फिर से नई

प्यास 
अधरों पर हमारे
छलछलाई रात भर ।

गुदगुदाकर 
मञ्जरी को
खुशबुई लम्हे खिले
पँखुरी के 
पास आई
गंध ले शिकवे-गिले

नेह में 
गुलदाऊदी
रह-रह नहाई रातभर ।

फागुनी 
अठखेलियों में
कब महावर चू गया
बांसुरी के 
अधर चुपके
राग कोई छू गया

प्रीति
अवगुण्ठन उठाकर
खिलखिलाई रातभर ।
   ****
अवनीश त्रिपाठी

1 Comment · 204 Views
You may also like:
कातिल बन गए है।
Taj Mohammad
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
✍️मातम और सोग है...!✍️
"अशांत" शेखर
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H. Amin
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
'सती'
Godambari Negi
#15_जून
Ravi Prakash
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
मैं और मांझी
Saraswati Bajpai
शेर
dks.lhp
कामयाबी
डी. के. निवातिया
तेरा प्यार।
Taj Mohammad
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा ---- ✍️ मुन्ना मासूम
मुन्ना मासूम
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H. Amin
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
ऐ वक्त ठहर जा जरा सा
Sandeep Albela
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
Loading...