Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2016 · 1 min read

महमहाई रातभर

झूमती
डाली लता की
महमहाई रात भर ।

शाम ढलते
ही मदिर सी
गन्ध कोई छू गई
नेह में 
डूबी हुई सिहरन
जगी फिर से नई

प्यास 
अधरों पर हमारे
छलछलाई रात भर ।

गुदगुदाकर 
मञ्जरी को
खुशबुई लम्हे खिले
पँखुरी के 
पास आई
गंध ले शिकवे-गिले

नेह में 
गुलदाऊदी
रह-रह नहाई रातभर ।

फागुनी 
अठखेलियों में
कब महावर चू गया
बांसुरी के 
अधर चुपके
राग कोई छू गया

प्रीति
अवगुण्ठन उठाकर
खिलखिलाई रातभर ।
   ****
अवनीश त्रिपाठी

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" ऐसा रंग भरो पिचकारी में "
Chunnu Lal Gupta
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
"गूंगी ग़ज़ल" के
*Author प्रणय प्रभात*
*अटल बिहारी जी नमन, सौ-सौ पुण्य प्रणाम (कुंडलिया)*
*अटल बिहारी जी नमन, सौ-सौ पुण्य प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
_सुलेखा.
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
हक हैं हमें भी कहने दो
हक हैं हमें भी कहने दो
SHAMA PARVEEN
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
‌‌‍ॠतुराज बसंत
‌‌‍ॠतुराज बसंत
Rahul Singh
*हुई हम से खता,फ़ांसी नहीं*
*हुई हम से खता,फ़ांसी नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
gurudeenverma198
सृजन
सृजन
Rekha Drolia
" परदेशी पिया "
Pushpraj Anant
करे मतदान
करे मतदान
Pratibha Pandey
मोर
मोर
Manu Vashistha
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2577.पूर्णिका
2577.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
न्याय तो वो होता
न्याय तो वो होता
Mahender Singh
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
धरती मेरी स्वर्ग
धरती मेरी स्वर्ग
Sandeep Pande
नायाब तोहफा
नायाब तोहफा
Satish Srijan
स्वागत है  इस नूतन का  यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...