Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2023 · 1 min read

महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,

महबूब से कहीं ज़्यादा, शराब ने साथ दिया,
दिलवर रंग बदलता रहा, ज़ाम कभी नहीं।
*****
जब भी तलाशने लगता हूँ, हसीं पन्ने डायरी के,
जाने क्यों बारहा तुम्हारी तस्वीर सामने आती है।

18 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shreedhar
View all
You may also like:
"ये कविता ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
सावन मास निराला
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जल बचाओ , ना बहाओ
जल बचाओ , ना बहाओ
Buddha Prakash
Kabhi kabhi hum
Kabhi kabhi hum
Sakshi Tripathi
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
मैं दुआ करता हूं तू उसको मुकम्मल कर दे,
मैं दुआ करता हूं तू उसको मुकम्मल कर दे,
Abhishek Soni
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
मन में सदैव अपने
मन में सदैव अपने
Dr fauzia Naseem shad
ना देखा कोई मुहूर्त,
ना देखा कोई मुहूर्त,
आचार्य वृन्दान्त
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
Sonu sugandh
देह धरे का दण्ड यह,
देह धरे का दण्ड यह,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अपनी-अपनी विवशता
अपनी-अपनी विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Sukoon
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
Dr MusafiR BaithA
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
Harminder Kaur
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
Dr Shweta sood
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
सनम की शिकारी नजरें...
सनम की शिकारी नजरें...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
पता पुष्प का दे रहे,
पता पुष्प का दे रहे,
sushil sarna
नहीं है प्रेम जीवन में
नहीं है प्रेम जीवन में
आनंद प्रवीण
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
अध्यापक दिवस
अध्यापक दिवस
SATPAL CHAUHAN
धर्म की खूंटी
धर्म की खूंटी
मनोज कर्ण
स्त्री यानी
स्त्री यानी
पूर्वार्थ
*पश्चाताप*
*पश्चाताप*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाहे अकेला हूँ , लेकिन नहीं कोई मुझको गम
चाहे अकेला हूँ , लेकिन नहीं कोई मुझको गम
gurudeenverma198
// दोहा ज्ञानगंगा //
// दोहा ज्ञानगंगा //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...