Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2016 · 1 min read

महबूबा | अभिषेक कुमार अम्बर

सबकी मेहबूबा है वो सबके दिल की रानी है।
मेरी गली के लड़कों पे जबसे आई जवानी है।
कभी कभी लगती मुझको वो सब तालों की चाबी है।
और जिससे पूछों वो ही कहता भैया तेरी भाभी है।
जब अपनी सखियों के संग जाती वो बाजार है।
ऐसे खुश होते हैं सारे जैसे कोई त्यौहार है।
किसी के दिल को चैन नहीं है सबकी नींद चुरायी है।
किसी को लगती रसगुल्ला तो किसी को बालूशाही है।
गली के सारे लड़कों का ऐसा हाल कर डाला है।
सब जन्मों के प्यासे हैं वो अमृत का प्याला है।
कॉलेज का क्या हाल सुनाऊं सब जगहउसका चर्चा है।
और महंगाई की तरह बढ़ रहा लड़कों का अब खर्चा है।
अम्बर पूरे हो पाएंगे क्या उनके मनसूबे हैं।
कॉलेज के सारे लड़के ही अब कर्जे में डूबे हैं।

©अभिषेक कुमार अम्बर

Language: Hindi
366 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*मानपत्रों से सजा मत देखना उद्गार में (हिंदी गजल/
*मानपत्रों से सजा मत देखना उद्गार में (हिंदी गजल/
Ravi Prakash
तुम होते हो नाराज़ तो,अब यह नहीं करेंगे
तुम होते हो नाराज़ तो,अब यह नहीं करेंगे
gurudeenverma198
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
■ दिल
■ दिल "पिपरमेंट" सा कोल्ड है भाई साहब! अभी तक...।😊
*Author प्रणय प्रभात*
* विजयदशमी मनाएं हम *
* विजयदशमी मनाएं हम *
surenderpal vaidya
आम आदमी
आम आदमी
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
मैथिली मुक्तक (Maithili Muktak) / मैथिली शायरी (Maithili Shayari)
मैथिली मुक्तक (Maithili Muktak) / मैथिली शायरी (Maithili Shayari)
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
माँ
माँ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
हार का पहना हार
हार का पहना हार
Sandeep Pande
मुर्शिदे कामिल है।
मुर्शिदे कामिल है।
Taj Mohammad
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
भारत देश
भारत देश
लक्ष्मी सिंह
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
Maroof aalam
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वप्न बेचकर  सभी का
स्वप्न बेचकर सभी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
💐प्रेम कौतुक-261💐
💐प्रेम कौतुक-261💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शेर
शेर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ Rãthí
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
आधा - आधा
आधा - आधा
Shaily
अहोई अष्टमी का व्रत
अहोई अष्टमी का व्रत
Harminder Kaur
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2615.पूर्णिका
2615.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
एक पराई नार को 💃🏻
एक पराई नार को 💃🏻
Yash mehra
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
Loading...