Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2023 · 1 min read

“महंगा तजुर्बा सस्ता ना मिलै”

शीर्षक: “महंगा तजुर्बा सस्ता ना मिलै”
(मंगलवार, 29 नवम्बर 2022)

महंगा तजुर्बा, सस्ता ना मिलै,
यू चक्रवर्धी ब्याज ज्यूँ चलै।
खून पसीना गेल हाड़ फोड़े,
या दाल कर्म की न्यूवे ना गलै।
न्यू तो जिन्दगी चार दिन की,
अर स्वाद नी अठन्नी का बी।
रपिया दो रपिया खोया प्यार म्ह,
ब्योन्त नही चवन्नी का बी।।
कद बोया किसनै काटया,
बेरा ना फल कितना निमडै:।
महंगा तजुर्बा, सस्ता ना मिलै,
यू चक्रवर्धी ब्याज ज्यूँ चलै।
मसीहा बणन के फेर म्ह,
फद्दू बण्या के पाया।
अर कित गया कोठारी कुठारपणा ,
तननै भौरा नी थ्याया।।
इस्तिहार बड़े बड़े किस काम के,
खोटा सिक्का ना सदा चलै।
महंगा तजुर्बा, सस्ता ना मिलै,
यू चक्रवर्धी ब्याज ज्यूँ चलै।
खून पसीना गेल हाड़ फोड़े,
या दाल कर्म की न्यूवे ना गलै।
महंगा तजुर्बा, सस्ता ना मिलै……

-सुनील सैनी “सीना”,
राम नगर, रोहतक रोड़, जीन्द(हरियाणा)-१२६१०२.

1 Like · 303 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिंदी दोहा- अर्चना
हिंदी दोहा- अर्चना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"वो दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
परेशानियों से न घबराना
परेशानियों से न घबराना
Vandna Thakur
नहीं मैं -गजल
नहीं मैं -गजल
Dr Mukesh 'Aseemit'
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
शेखर सिंह
* भाव से भावित *
* भाव से भावित *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
आर.एस. 'प्रीतम'
कहना क्या
कहना क्या
Awadhesh Singh
दीवाना दिल
दीवाना दिल
Dipak Kumar "Girja"
3050.*पूर्णिका*
3050.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
मेरा देश महान
मेरा देश महान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक शाम उसके नाम
एक शाम उसके नाम
Neeraj Agarwal
महाकाल
महाकाल
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अभी-अभी
अभी-अभी
*प्रणय प्रभात*
रात का आलम किसने देखा
रात का आलम किसने देखा
कवि दीपक बवेजा
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
Manisha Manjari
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
*स्वजन जो आज भी रूठे हैं, उनसे मेल हो जाए (मुक्तक)*
*स्वजन जो आज भी रूठे हैं, उनसे मेल हो जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
Neelam Sharma
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
Loading...