Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2024 · 1 min read

मस्ती का माहौल है,

मस्ती का माहौल है,
आज न करना लाज ।
रंगों की बौछार में,
छुप जाएंगे राज ।।

सुशील सरना / 25-3-24

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
नर जीवन
नर जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
बाट का बटोही ?
बाट का बटोही ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
देख तो ऋतुराज
देख तो ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मुझे आदिवासी होने पर गर्व है
मुझे आदिवासी होने पर गर्व है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
विजय कुमार अग्रवाल
जश्न आजादी का ....!!!
जश्न आजादी का ....!!!
Kanchan Khanna
" बिछड़े हुए प्यार की कहानी"
Pushpraj Anant
22-दुनिया
22-दुनिया
Ajay Kumar Vimal
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
Bidyadhar Mantry
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
सच्चाई का रास्ता
सच्चाई का रास्ता
Sunil Maheshwari
फिर  किसे  के  हिज्र  में खुदकुशी कर ले ।
फिर किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले ।
himanshu mittra
नवगीत - बुधनी
नवगीत - बुधनी
Mahendra Narayan
शहर
शहर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2541.पूर्णिका
2541.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
Taj Mohammad
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Sakshi Tripathi
सूरज सा उगता भविष्य
सूरज सा उगता भविष्य
Harminder Kaur
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
गुमनाम 'बाबा'
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
पर्यावरण संरक्षण
पर्यावरण संरक्षण
Pratibha Pandey
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
Dr fauzia Naseem shad
■ कथ्य के साथ कविता (इससे अच्छा क्या)
■ कथ्य के साथ कविता (इससे अच्छा क्या)
*प्रणय प्रभात*
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
Keshav kishor Kumar
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...