Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2023 · 2 min read

मसल कर कली को

नमन मंच
#दैनिक रचना
#दिनांक:-26/12/2023
#शीर्षक:-मसल कर कली को।

चाँद का दाग अब अदृश्य होने लगा है,
बेकरार सजन,
फिर क्यूँ दम्भ भरने लगा है ?
लाली बिखेर प्यार की सांझ से,
अब काली रात से क्यूँ डरने लगा है ?
खूबी बेकरार होकर करार मांगता है ,
प्रेम में आलिंगन आर-पार मांगता है,
कोर से गिरते अश्क-धार ,
लोचन मींचते कर बार-बार कांपता है ।
यौवन की मनमोहक कली,
अधूरी महक को, अब पूरा चाहने लगा है,
चाँद का दाग अब अदृश्य होने लगा है,
बेकरार सजन फिर क्यूँ दम्भ भरने लगा है?।1।

कहों कैसे विस्मृत करूँ दिलदार को,
पहली चुम्बन पहले प्यार को!
सिहरन अब भी बाकी रोम-रोम में ,
सुहाने मौसम हुए गुलजार को।
नटखट मन प्रिय से,
प्रथम प्रेम तारुण्य चाहने लगा है ,
चाँद का दाग अब अदृश्य होने लगा है,
बेकरार सजन फिर क्यूँ दम्भ भरने लगा है ?।2।

श्रृंगार कर ख्वाब हसीन बुन रही ख्वाहिश,
नेह सुमन से आँचल भरने की कर रही फरमाइश,
उर के अंदर हर कंप को दृग करो प्रिय,
छोड़ो बचपना ना करो अब नुमाइश ।
बेकरारी की हद पार हो रही,
पोर-पोर में अब उष्णता फैलने लगा है,
चाँद का दाग अब अदृश्य होने लगा है,
बेकरार सजन फिर क्यूँ दम्भ भरने लगा है।?3।

मसल कर कली को, फूल गुलाब कर दो,
सूखे कुएँ में आब भर दो,
हरियाली देखे बरस बीत गए ,
बंजर धरती पर हरित की दाब कर दो ।
अज्ञात सुखद एहसास की मदिरा!
सजनी के साथ साजन पीने लगा है ,
चाँद का दाग अब अदृश्य होने लगा है,
बेकरार सजन फिर क्यूँ दम्भ भरने लगा है ?।4।

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुश्क आँखों पे क्यूँ यकीं होता नहीं
खुश्क आँखों पे क्यूँ यकीं होता नहीं
sushil sarna
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
अनगढ आवारा पत्थर
अनगढ आवारा पत्थर
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
मुस्कुराना सीख लिया !|
मुस्कुराना सीख लिया !|
पूर्वार्थ
प्यासा के कुंडलियां (झूठा)
प्यासा के कुंडलियां (झूठा)
Vijay kumar Pandey
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
Sarfaraz Ahmed Aasee
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
ऐसी विकट परिस्थिति,
ऐसी विकट परिस्थिति,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
Vijay Nagar
देखना हमको
देखना हमको
Dr fauzia Naseem shad
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कहानी इश्क़ की
कहानी इश्क़ की
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक अलग ही खुशी थी
एक अलग ही खुशी थी
Ankita Patel
2386.पूर्णिका
2386.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तौलकर बोलना औरों को
तौलकर बोलना औरों को
DrLakshman Jha Parimal
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छा जाओ आसमान की तरह मुझ पर
छा जाओ आसमान की तरह मुझ पर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
..........?
..........?
शेखर सिंह
सत्य
सत्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
Neelam Sharma
Loading...