Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2023 · 1 min read

मशहूर हो जाऊं

आरज़ू है कि मैं मशहूर हो जाऊ
केवल अल्फाज़ो के तासीर से
उम्मीद,ईशाद,ईशितयाक मुझसे नहीं
ये सब कहो भूतपूर्व आजमे वजीर से
मेरे वादें, इरादे, मंजीले अब्तर भले
जानों फिर भी मानो तमिज से
कोई फर्क नहीं जूल्म, ज़हर, जहीर में
मजाल है कोई पुछ लें आज के तारिख में
मैंने क्या नहीं किया बने रहने को अखबार में
केवल भाषणों के जागीर से
जलील, जालिम, जिल्लत कुछ भी समझो
कोई फर्क नहीं काजल और कालिख में
यहां की आबोहवा मुझसे रुबरु है
बिना किसी एहतियात के
इसितफा, इस्बात का इस्तेमाल कयूकर
जब खुद ही सराती है हम अपने बरात के

स्वरचित कविता (कटाक्ष);-सुशील कुमार सिंह “प्रभात”

Language: Hindi
2 Likes · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
■ आज की मांग
■ आज की मांग
*प्रणय प्रभात*
राधा कृष्ण होली भजन
राधा कृष्ण होली भजन
Khaimsingh Saini
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
Aarti sirsat
किंकर्तव्यविमूढ़
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
//एक सवाल//
//एक सवाल//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
अफसोस
अफसोस
Dr. Kishan tandon kranti
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
Dr. Man Mohan Krishna
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
Anand Kumar
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं अकेली हूँ...
मैं अकेली हूँ...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
Suneel Pushkarna
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
विजय कुमार अग्रवाल
तन्हा रातों में इक आशियाना ढूंढती है ज़िंदगी,
तन्हा रातों में इक आशियाना ढूंढती है ज़िंदगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
आर.एस. 'प्रीतम'
बहुत कुछ पढ़ लिया तो क्या ऋचाएं पढ़ के देखो।
बहुत कुछ पढ़ लिया तो क्या ऋचाएं पढ़ के देखो।
सत्य कुमार प्रेमी
हमें सलीका न आया।
हमें सलीका न आया।
Taj Mohammad
Loading...