Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2023 · 1 min read

*मरने का हर मन में डर है (हिंदी गजल)*

मरने का हर मन में डर है (हिंदी गजल)
_________________________
(1)
मरने का हर मन में डर है
यद्यपि पता देह नश्वर है
(2)
तन के भीतर किसने ढूॅंढा
आत्म-तत्व जो अजर-अमर है
(3)
बार-बार का जन्म-मरण यह
प्रभु की लीला का चक्कर है
(4)
जन्म-मरण से क्या घबराना
होता रहा सदा घर-घर है
(5)
पता मनुज को मृत्यु सुनिश्चित
चाह रहा अमरत्व मगर है
(6)
निज अस्तित्व मिटाया जिसने
मोक्ष उसी का हुआ मुखर है
(7)
बहीं नदी में राख-अस्थियॉं
किसे पता अब मृतक किधर है
________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

307 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
अपनी स्टाईल में वो,
अपनी स्टाईल में वो,
Dr. Man Mohan Krishna
2789. *पूर्णिका*
2789. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इंतजार युग बीत रहा
इंतजार युग बीत रहा
Sandeep Pande
एक गुलाब हो
एक गुलाब हो
हिमांशु Kulshrestha
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
Rakesh Panwar
बर्दाश्त की हद
बर्दाश्त की हद
Shekhar Chandra Mitra
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
shabina. Naaz
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
surenderpal vaidya
आज के दौर
आज के दौर
$úDhÁ MãÚ₹Yá
चाँद सी चंचल चेहरा🙏
चाँद सी चंचल चेहरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यातायात के नियमों का पालन हम करें
यातायात के नियमों का पालन हम करें
gurudeenverma198
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
*हनुमान (बाल कविता)*
*हनुमान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जिंदगी को रोशन करने के लिए
जिंदगी को रोशन करने के लिए
Ragini Kumari
जीवन में समय होता हैं
जीवन में समय होता हैं
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-553💐
💐प्रेम कौतुक-553💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लिपटी परछाइयां
लिपटी परछाइयां
Surinder blackpen
वर्णमाला
वर्णमाला
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
😢4
😢4
*Author प्रणय प्रभात*
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
दोहा बिषय- दिशा
दोहा बिषय- दिशा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...