Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

ममता

ममता देकर पीड़ा हरती,
जब-जब संकट आते हैं l
मानव ही क्या,पशु-पक्षी भी,
माँ की महिमा गाते हैं l
ममता देकर पीड़ा हरती…l

बच्चों की रक्षा को माँ हर,
संकट से लड़ जाती है l
मौत भी आए आगे उसके,
अडिग-अचल अड़ जाती है l
इसकी ममता के आँचल में,
स्वप्न सलोने आते हैं l
मानव ही क्या पशु-पक्षी भी,
माँ की महिमा गाते हैं l
ममता देकर पीड़ा हरती…l

हर कोई यह गाँठ बाँध ले,
हर कोई यह ध्यान धरे l
पाप का भागी बन जाता है,
जो इसका अपमान करे l
सुख-दु:ख इस नश्वर जीवन के,
हमको यही बताते हैं l
मानव ही क्या, पशु-पक्षी भी,
माँ की महिमा गाते हैं l
ममता देकर पीड़ा हरती…l

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ. प्र.)
मो. 8941912642

Language: Hindi
Tag: गीत
451 Views
You may also like:
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
✍️अपने शामिल कितने..!✍️
'अशांत' शेखर
यह क्या किया तुमने
gurudeenverma198
दिवाली है
शेख़ जाफ़र खान
अनवरत सी चलती जिंदगी और भागते हमारे कदम।
Manisha Manjari
पुस्तक समीक्षा-प्रेम कलश
राकेश चौरसिया
लाख मिन्नते मांगी ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
जीने की कला
Shyam Sundar Subramanian
इन आँखों के भोलेपन में प्यार तुम्हारे लिए ही तो...
Sadhnalmp2001
गज़ल
जगदीश शर्मा सहज
बारिश का मौसम
विजय कुमार अग्रवाल
शेर
pradeep nagarwal
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
Prayer to the God
Buddha Prakash
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
आवाज़ उठा
Shekhar Chandra Mitra
माल्यार्पण (हास्य व्यंग)
Ravi Prakash
महाकवि भवप्रीताक सुर सरदार नूनबेटनी बाबू
श्रीहर्ष आचार्य
खुदसे ही लड़ रहे हैं।
Taj Mohammad
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कुछ न कुछ छूटना तो लाज़मी है।
Rakesh Bahanwal
बुंदेली दोहा- बिषय -अबेर (देर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
*परम चैतन्य*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हें अकेले चलना होगा
Abhishek Pandey Abhi
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
मैं भारत हूँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
Loading...