Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

ममतामयी मां

ममतामयी मां ने ममता के कारण ,
दिया जन्म ममता को मरणावस्था में।
ममता जीवित रही किया ममता रूप धारण।
शनै-2 काल चक्कर चला, चेता मां ने ममता को,

संकट सह खुद किया बहाल ममता को ,
ममता बड़ी हुई जागी उमंग सो बीत।
पूर्व ममता दत्ता को छोड़ किया संकल्प,
स्वयं ममता धारण करू, बनूं सुख सरित।।

संसार रीति अपट अभागी ब्यान करें कौन,
देखत हालत ममता की ममता है मौन।
उपवन में डोलत भृंग करत गुजारत ,
ममता से दूर हर प्रेम सँग कली कलात।।

जाऊ कहां? निपट अभागा सुन ममतामयी मां,
दुःखों से दुखी हूं याद करता हूँ तुझे।
मुझे है ख्याल तेरा मैं तुम पर बलिहार,
करना माफ मुझे फसा निपट अंधियार।।
सतपाल चौहान

Language: Hindi
3 Likes · 91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
DrLakshman Jha Parimal
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
अंधों के हाथ
अंधों के हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
Anju ( Ojhal )
*
*" कोहरा"*
Shashi kala vyas
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
"तजुर्बा"
Dr. Kishan tandon kranti
“बप्पा रावल” का इतिहास
“बप्पा रावल” का इतिहास
Ajay Shekhavat
दिल पर करती वार
दिल पर करती वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मुकाम
मुकाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
surenderpal vaidya
मौत की हक़ीक़त है
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
Change is hard at first, messy in the middle, gorgeous at th
Change is hard at first, messy in the middle, gorgeous at th
पूर्वार्थ
श्री राम
श्री राम
Kavita Chouhan
*तुलसी के राम : ईश्वर के सगुण-साकार अवतार*
*तुलसी के राम : ईश्वर के सगुण-साकार अवतार*
Ravi Prakash
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
manjula chauhan
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
लौट आयी स्वीटी
लौट आयी स्वीटी
Kanchan Khanna
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
सच तो ये भी है
सच तो ये भी है
शेखर सिंह
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
Atul "Krishn"
Loading...