Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

मन मेरे तू सावन सा बन….

मन मेरे तू सावन-सा बन !
मृदुल-मधुर भावों से अपने,
कर दे जग को पावन-पावन।
मन मेरे तू सावन-सा बन !

मिट जाए चाहे तेरी हस्ती।
हरी-भरी हो जग की बस्ती।
खिल उठें घर-उपवन-कानन।
मन मेरे तू सावन-सा बन !

तपते आतप से कितने प्राणी।
उन्हें सुना राहत की वाणी।
भर जाए खुशी से दामन-दामन।
मन मेरे तू सावन-सा बन !

जो पल-पल तेरी राह निहारें।
मिल तू उनसे बाँह पसारे।
मुरझे न कोई आस भरा मन।
मन मेरे तू सावन-सा बन !

छाले पड़े जिनके पाँव में।
तेरे आँचल की शीत छाँव में,
मिले उन्हें माँ-सा अपनापन।
मन मेरे तू सावन-सा बन !

स्नेह कण तूने किये जो संचित।
रख मत उनसे जग को वंचित।
बरसा उन्हें दे आँगन-आँगन।
मन मेरे तू सावन-सा बन !

© डॉ0 सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ0प्र0 )

Language: Hindi
2 Likes · 338 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
"दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
सम्बन्धों  में   हार  का, अपना  ही   आनंद
सम्बन्धों में हार का, अपना ही आनंद
Dr Archana Gupta
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
अब किसका है तुमको इंतजार
अब किसका है तुमको इंतजार
gurudeenverma198
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
नया साल लेके आए
नया साल लेके आए
Dr fauzia Naseem shad
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
निशानी
निशानी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मन मंदिर के कोने से
मन मंदिर के कोने से
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
Surinder blackpen
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
Anand Kumar
■ ठीक नहीं आसार
■ ठीक नहीं आसार
*Author प्रणय प्रभात*
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जीवन
जीवन
Monika Verma
पोषित करते अर्थ से,
पोषित करते अर्थ से,
sushil sarna
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
बेटियाँ
बेटियाँ
Mamta Rani
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
Dr MusafiR BaithA
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
*अर्पण प्रभु को हो गई, मीरा भक्ति प्रधान ( कुंडलिया )*
*अर्पण प्रभु को हो गई, मीरा भक्ति प्रधान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
Manisha Manjari
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिसकी भी आप तलाश मे हैं, वह आपके अन्दर ही है।
जिसकी भी आप तलाश मे हैं, वह आपके अन्दर ही है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
नेह निमंत्रण नयनन से, लगी मिलन की आस
नेह निमंत्रण नयनन से, लगी मिलन की आस
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
अजनबी !!!
अजनबी !!!
Shaily
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
Swara Kumari arya
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
Loading...