Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

मन के झरोखों में छिपा के रखा है,

मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
सबकी नज़र से बचा के रखा है।
ढूंढता हूं बस उस अल्हड़ बचपने को,
न जाने कहां बचपना खो गया है।।
अमित मिश्र

Language: Hindi
279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
Arvind trivedi
ज़िंदगी इम्तिहान
ज़िंदगी इम्तिहान
Dr fauzia Naseem shad
■ लघु व्यंग्य :-
■ लघु व्यंग्य :-
*प्रणय प्रभात*
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
Kanchan Alok Malu
आदत से मजबूर
आदत से मजबूर
Surinder blackpen
Maine
Maine "Takdeer" ko,
SPK Sachin Lodhi
🌸दे मुझे शक्ति🌸
🌸दे मुझे शक्ति🌸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
तलाश हमें  मौके की नहीं मुलाकात की है
तलाश हमें मौके की नहीं मुलाकात की है
Tushar Singh
मैं राम का दीवाना
मैं राम का दीवाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
sudhir kumar
भ्रम
भ्रम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
नहीं जाती तेरी याद
नहीं जाती तेरी याद
gurudeenverma198
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
विजय कुमार अग्रवाल
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
Satyaveer vaishnav
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
संतोष धन
संतोष धन
Sanjay ' शून्य'
जिसकी शाख़ों पर रहे पत्ते नहीं..
जिसकी शाख़ों पर रहे पत्ते नहीं..
Shweta Soni
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
ruby kumari
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
Sakhawat Jisan
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
Loading...