Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2016 · 1 min read

मन की बात

दिल कहता है मै तेरे आस-पास रहूँ ।

हाँ कहूँ अपने मन के अहसास कहूँ ।।

छूकर जाती है हर हवा दिल के तार ।

सोचता हूँ खुलकर मनकी बात कहूँ ।।

सुमन कुमार आहूजा अनाड़ी

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Like · 1 Comment · 431 Views
You may also like:
A cup of tea ☕
Buddha Prakash
श्याम घनाक्षरी-2
सूर्यकांत द्विवेदी
कविगोष्ठी समाचार
Awadhesh Saxena
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
*"परिवर्तन नए पड़ाव की ओर"*
Shashi kala vyas
विसाले यार
Taj Mohammad
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
शहीदे-आज़म पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
✍️✍️ये बौनी!आँखों से गोली मार रही है✍️✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जग के पालनहार
Neha
महर्षि बाल्मीकि
Ashutosh Singh
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
"अकेला काफी है तू"
कवि दीपक बवेजा
एक दीये की दीवाली
Ranjeet Kumar
सियासी क़ैदी
Shekhar Chandra Mitra
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
✍️राजू ये कैसी अदाकारी..?
'अशांत' शेखर
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
सार संभार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लघुकथा- उम्मीद की किरण
Akib Javed
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
गदा हनुमान जी की
AJAY AMITABH SUMAN
तिरंगा
Dr Archana Gupta
न्याय
विजय कुमार 'विजय'
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
मेहनत
AMRESH KUMAR VERMA
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*व्यंग्य*
Ravi Prakash
Loading...